ताज़ा खबर
 

हिमाचल प्रदेश में खाई में गिरी बस, 44 यात्रियों की मौत

बंजार के एसडीएम ने शाम सवा पांच बजे तक 25 यात्रियों की मृत्यु की पुष्टि की और कहा कि 35 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। हालांकि देर शाम तक मृतकों की संख्या 34 तक पहुंच गई।

बस एक्सीडेंट (फोटो सोर्स- एनआई)

कुल्लू जिले के बंजार उपमंडल मुख्यालय के निकट बयोट मोड़ पर गुरुवार शाम एक बस के 500 फुट गहरी खाई में गिरने से 44 यात्रियों की मौत हो गई और 26 लोग घायल हो गए। प्रशासन व ग्रामीणों ने घायलों को निकाल कर उन्हें अस्पताल पहुंचाया। खचाखच भरी इस बस में 60 यात्री सवार थे। खाई में गिरते ही बस के परखचे उड़ गए और उपरी हिस्सा पूरी तरह से नष्ट हो गया। बस में अधिकतर कॉलेज छात्र सवार थे, जो एडमिशन लेकर लौट रहे थे। दुर्घटनास्थल पर राहत व बचाव कार्य जारी है।

बंजार के एसडीएम ने शाम सवा पांच बजे तक 25 यात्रियों की मृत्यु की पुष्टि की और कहा कि 35 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। हालांकि देर रात तक मृतकों की संख्या 44 तक पहुंच गई। यह बस बंजार से गाड़ागुशैणी-खौली के लिए रवाना हुई थी और महज दो किलोमीटर दूर ही लगभग 500 फुट गहरी खाई में गिर गई। घटना की सूचना मिलते ही बंजार के एसडीएम अन्य अधिकारियों और बचाव दल के साथ दुर्घटनास्थल के लिए रवाना हो गए।

घायलों को तुरंत नागरिक अस्पताल बंजार पहुंचाया गया। गंभीर रूप से घायल हुए यात्रियों को कुल्लू के क्षेत्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिला अस्पतास से तुरंत एंबुलेंस घटनास्थल को रवाना की गर्इं। दो बचाव टीमें मौके पर हैं और स्थानीय लोग भी बचाव कार्य में सहयोग कर रहे हैं।

एसडीएम एमआर भारद्वाज के अनुसार बचाव कार्य जारी है और मृतकों की संख्या अभी भी बढ़ सकती है। उन्होंने मृतकों के परिजनों और घायलों को फौरी राहत के रूप में 50000 रुपए की राशि मौके पर ही वितरित की, जबकि मृतकों की शिनाख्त कर उनके परिजनों को राहत राशि प्रदान की जा रही है। बस हादसे में हताहत हुए अधिकतर लोग मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के विधानसभा क्षेत्र सराज के हैं जो सूचना मिलते ही शिमला से घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं। बताया जा रहा घायल व मृतक सराज के गाड़ागुशैण के निवासी है। सभी गंभीर रूप से घायल हैं। सभी को उपचार के लिए बंजार अस्पताल लाया गया है, जबकि कुछ को गंभीर हालत में कुल्लू रेफर किया गया है।

Next Stories
1 चुनौतियों के बावजूद कायम है हिमाचल के शहद की मिठास
2 हिमाचलः अभी तो भितरघातियों से सहमे हैं दोनों प्रमुख दल
3 सत्ता समर हिमाचल: राजा-रानियों और कांग्रेस का रहा है हमेशा दबदबा
ये पढ़ा क्या?
X