ताज़ा खबर
 

हाथरस गैंगरेप पर बोले एडीजी- फोरेंसिक रिपोर्ट में बलात्कार की पुष्टि नहीं, परिजन का आरोप- बयान बदलने के लिए दबाव की कोशिश

अपर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच के लिए विशेष अनुसंधान दल गठित किया। उन्होंने कहा कि इस घटना में जो लोग भी शामिल हैं उन्हें कतई बख्शा नहीं जाएगा।

ADG Hathras caseअपर पुलिस महानिदेशक, कानून व्यवस्था (ADG) प्रशांत कुमार। (फोटो- सोशल मीडिया)

उत्तर प्रदेश पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि हाथरस कांड में 19 वर्षीय दलित लड़की के साथ बलात्कार नहीं हुआ था। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) आनंद कुमार ने यहां कहा कि दिल्ली के एक अस्पताल के मुताबिक दलित युवती की मौत गले में चोट लगने और उसके कारण हुए सदमे की वजह से हुई थी। उन्होंने कहा कि फॉरेंसिक साइंस लैब की रिपोर्ट से भी यह साफ जाहिर होता है कि उसके साथ बलात्कार नहीं हुआ।

उधर, हाथरस गैंगरेप मामले में पीड़िता के परिवार ने चौंकाने वाला दावा किया है। परिवार का कहना है कि जिले के डीएम बयान बदलने के लिए दबाव बना रहे हैं। मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक डीएम का कहना है मीडिया चला जाएगा, हम ही रहेंगे। डीएम ने यह भी कहा कि आपको बयान बदलना है या नहीं ये आपकी इच्छा है। वहीं, इस खबर को लेकर जिले के डीएम ने कहा कि यह महज अफवाह है। मैंने पीड़िता के परिवार के 6 लोगों से मुलाकात की थी। बयान बदलने के दबाव की खबर अफवाह है, असल मुद्दा दोषियों को सजा मिलना है।

इससे पहले अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) आनंद कुमार कहा कि वारदात के बाद युवती ने पुलिस को दिए गए बयान में भी अपने साथ बलात्कार होने की बात नहीं कही थी। उन्होंने कहा कि उसने सिर्फ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया था। कुमार ने कहा कि सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने और जातीय हिंसा भड़काने के लिए कुछ लोग तथ्यों को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘पुलिस ने हाथरस मामले में तुरंत कार्यवाही की और अब हम उन लोगों की पहचान करेंगे जिन्होंने माहौल खराब करने और प्रदेश में जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश की।’’


अपर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच के लिए विशेष अनुसंधान दल गठित किया। उन्होंने कहा कि इस घटना में जो लोग भी शामिल हैं उन्हें कतई बख्शा नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘मेडिकल रिपोर्ट आने से पहले ही सरकार के खिलाफ गलत बयानी की गई और पुलिस की छवि को खराब किया गया। हम पड़ताल करेंगे कि यह सब किसने किया। यह एक गंभीर मामला है और सरकार तथा पुलिस महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को लेकर बेहद संजीदा है।’’ उन्होंने कहा कि आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2018 और 2019 में उत्तर प्रदेश महिलाओं के प्रति अपराधों में सजा दिलाने के मामले में शीर्ष पर रहा है।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Unlock 5.0: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने जारी किए दिशा निर्देश, जानिए क्या खुलेगा
2 जब संबित पात्रा ने यास्मीन फारूकी को कहा दादीजी, भड़की पैनलिस्ट ने कहा इन्हें तमीज नहीं
3 कांग्रेसी सरकार वाले राज्यों में प्रियंका क्यो साध लेती हैं सेलेक्टिव चुप्पी, एंकर के सवाल पर कांग्रेस नेता दिया ये जवाब
IPL 2020
X