ताज़ा खबर
 

आप दंगा फैलाने का हक मांगना चाहते हैं, एंकर ने तस्लीम रहमानी पर उठाए सवाल तो भड़क गए पैनलिस्ट

एसडीपीआई नेता ने न्यूज एंकर से पूछा किया क्या सवाल पूछने का हक नहीं है। इस पर अमीश देवगन ने कहा, 'आप सवाल पूछने का हक नहीं बल्कि दंगे फैलाने का हक मांगना चाहते हैं।

hathras rape case yogi adityanathडिबेट शो में न्यूज एंकर और पैनलिस्ट में खूब बहस हुई। (ट्विटर)

उत्तर प्रदेश की सुरक्षा एजेंसियों का दावा है कि हाथरस केस के बहाने प्रदेश में जातीय दंगों की साचिश रची गई। एजेंसियों के मुताबिक इसके लिए बकायदा रातों रात एक फर्जी वेबसाइट बनाई गई। ‘जस्टिस फॉर हाथरस’ नाम की इस वेबसाइट पर हजारों लोगों के जुड़ने का दावा भी किया गया। इस वेबसाइट में हाथरस केस को लेकर हिंसा भड़काने के लिए क्या करना और क्या नहीं करना है, सबकुछ विस्तार से बताया गया। हालांकि बाद में वेबसाइट बंद कर दी गई।

वेबसाइट के जरिए प्रदेश में कथित दंगों के दावों पर टीवी न्यूज18 इंडिया डिबेट शो ‘आर पार’ में पैनलिस्ट और एंकर आपस में भिड़ गए। दरअसल न्यूज एंकर अमीश देवगन ने एसडीपीआई नेता तस्लीम रहमानी से पूछा कि वेबसाइट में कथित तौर पर उनकी पार्टी का नाम सामने आ रहा है। इसपर पैनलिस्ट खासे भड़क गए। उन्होंने कहा कि सरकारों में जितने ‘अपराधी’ बैठे हैं, उन्हें अपने अपराध छिपाने के लिए एसडीपीआई की ढाल चाहिए। पिछले पांच-छह सालों में सरकार एसडीपीआई का जाप करती रहती है।

Bihar Election 2020 Live Updates

एसडीपीआई नेता ने न्यूज एंकर से पूछा किया क्या सवाल पूछने का हक नहीं है। इस पर अमीश देवगन ने कहा, ‘आप सवाल पूछने का हक नहीं बल्कि दंगे फैलाने का हक मांगना चाहते हैं। दंगा फैलाने का हक किसी को कैसे दिया जा सकता है।’ एंकर ने आगे कहा कि दिल्ली दंगे, बेंगलुरु दंगे और सीएए में एसडीपीआई का नाम क्यों आता है। उन्होंने कहा कि ये पार्टी ना हुई कोई दंगा फैलाने की मशीन बन गई है। हर दंगें में इस पार्टी का नाम है।

न्यूज एंकर की इस टिप्पणी पर एसडीपीआई नेता तस्लीम रहमानी खासे भड़क गए। उन्होंने कहा कि वो दंगा फैलाने की बात नहीं करते। सवाल पूछने की बात कर रहे हैं। उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को अपराधी बताते हुए कहा कि उन्हें हाथरस घटना पर शर्म आनी चाहिए। योगी अपराधी हैं। उनपर हत्या और लूट के चार्ज हैं। उनके ऊपर 12 मुकदमे हैं। आज वही यूपी के सीएम हैं।

यहां देखें वीडियो-

बताया जा रहा है कि हाथरस घटना के बाद ‘जस्टिस फॉर हाथरस’ वेबसाइट के जरिए मदद के नाम पर हिंसा फैलाने के लिए फंडिंग का इंतजाम भी किया जा रहा था। आरोप है कि PFI, SDPI ने यूपी में हिंसा फैलाने के लिए वेबसाइट तैयार कराने में अहम भूमिका निभाई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘वोट कटवा’ कहने पर भड़के ओवैसी, बोले- मुस्लिम मतदाताओं पर किसी का अधिकार नहीं, RJD की वजह से BJP चुनाव जीतती रही
2 हाथरस में संजय सिंह पर फेंकी स्याही, पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे थे आप सांसद
3 बिहार चुनाव: टिकट पर वामपंथियों का धरना-प्रदर्शन-अनशन; सचिव को किया कमरे में बंद
कोरोना टीकाकरण
X