ताज़ा खबर
 

राम रहीम ने केंद्रीय मंत्री उमा भारती को अपने डेरे में कराया था दो घंटे इंतजार

बाबा पर दो साध्वियों के साथ रेप, एक पीड़ित की भाई की हत्या, एक पत्रकार की हत्या और लोगों को नंपुसक बनाने का भी आरोप है।

सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह ने बलात्कार के 15 साल पुराने मामले में गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिया है। (PTI)

बलात्कार के दोषी पाए गए डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम का सजा का ऐलान सोमवार (28 अगस्त) को होगा। राम रहीम को दोषी सिद्ध होने के बाद से उत्तर भारत के कई शहरों में हिंसा भड़क गई थी। राम रहीम करीब ढाई दशक से डेरे के प्रमुख हैं। इन सालों में करीब करीब हर राजनीतिक पार्टियां डेरे से चुनाव में मदद मांगने पहुंची हैं। कई नेताओं के राम रहीम के साथ पिक्चर भी सामने आ रही है। एक अखबार के अनुसार साल 2014 के हरियाणा चुनाव के समय बीजेपी के करीब 46 उम्मीदवार राम रहीम का समर्थन मांगने गए थे तो वहीं लोकसभा चुनाव के समय कांग्रेस के उम्मीदवार समर्थन के लिए बाबा के दर पर गए थे। बाबा पर दो साध्वियों के साथ रेप, एक पीड़ित के भाई की हत्या, एक पत्रकार की हत्या और लोगों को नंपुसक बनाने का भी आरोप है।

HOT DEALS
  • Nokia 1 | Blue | 8GB
    ₹ 5199 MRP ₹ 5818 -11%
    ₹624 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32GB Fine Gold
    ₹ 8299 MRP ₹ 10990 -24%
    ₹1245 Cashback

बाबा का लोकप्रियता के चलते राजनीतिक पार्टियों पर पकड़ ऐसी है कि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के समय केंद्रीय मंत्री रहीं उमा भारती को राम रहीम ने करीब ढाई घंटे इंतजार करवाया था। राम रहीम उनसे किसी बात से नाराज चल रहे थे। 2007 में बाबा राम रहीम के डेरे के बारे में स्टिंग करने वाले पत्रकार अनुराग त्रिपाठी ने न्यूज चैनल में बताया कि सिरसा पूरी तरह सो दो हिस्से में बंटा हुआ है। जो शहर के मुख्य चौराहे से जो रास्ता डेरे की तरफ जाता है वहां हर दुकान पर आपको धन धन सतगुरू तेरा ही आसरा लिखा मिल जाएगा। इस बाद डेरे का किलानुमा मुख्यालय है। यहां पर कोई नहीं जा सकता। प्राइवेट आर्मी जैसे उनके सेवादार वहां मौजूद रहते हैं।

अनुराग त्रिपाठी ने बताया कि गुरमीत राम रहीम के डेरे में महिला साध्वियों का नंबर लगता था। गुरमीत राम रहीम के डेरे में ड्राइवर रहे  खट्टा सिंह ने एक चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में दावा किया था कि जब एक साध्वी के भाई रंजीत सिंह को पता चला कि उनकी बहन का यौन शोषण होता रहा है तो उन्होंने विरोध किया। डेरे के लोगों ने उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन जब वो नहीं माने तो उन्हें मरवा दिया गया। साथ ही पत्रकार ने अपने स्टिंग के समय के अपने डर का भी विस्तार से चर्चा की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App