ताज़ा खबर
 

अब्दुल करीम टुंडा को मिली उम्रकैद

28 दिसंबर, 1996 की शाम सोनीपत बस स्टैंड के पास सिनेमाहॉल और मार्केट में दो बम विस्फोट हुए थे जिसमें 12 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

Author सोनीपत | October 11, 2017 03:05 am
अब्दुल करीम टुंडा

हरियाणा के सोनीपत में 1996 में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के मामले में दोषी अब्दुल करीम टुंडा को स्थानीय अदालत ने मंगलवार को उम्रकैद सुनाई। इसके अलावा दो अलग-अलग धाराओं में 50-50 हजार रुपए का जुर्माना भी हुआ है। जुर्माना नहीं देने पर एक साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। अदालत ने सोमवार को टुंडा को दोषी करार दिया था। टुंडा को मंगलवार को सजा सुनाने के लिए अदालत में पेश किया गया। अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश डॉ. सुशील कुमार गर्ग ने फैसला सुनाते हुए हत्या के प्रयास, षड्यंत्र और विस्फोटक में उम्रकैद व एक लाख रुपए जुर्माने की सुनाई है। दो अलग-अलग धाराओं में उसे 50-50 हजार रुपए जुर्माने की सजा दी गई है। करीब 15 मिनट के बाद ही अदालत ने उसे उम्रकैद के अलावा दोनों धाराओं के तहत सजा सुनाई। सजा सुनाने के करीब एक घंटे बाद पुलिस टुंडा को अदालत से ले गई। टुंडा को गाजियाबाद ले जाया गया। टुंडा के वकील आशीष वत्स ने बताया कि सजा के खिलाफ टुंडा की ओर से हाई कोर्ट में अपील की जाएगी।

इससे पहले सुनवाई में टुंडा ने बयान दिया था कि घटना के समय वह पाकिस्तान में था। 28 दिसंबर, 1996 की शाम सोनीपत बस स्टैंड के पास सिनेमाहॉल और मार्केट में दो बम विस्फोट हुए थे जिसमें 12 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। इसके बाद पुलिस ने सज्जन सिंह नाम के शख्स के बयान पर मामला दर्ज किया। जांच में आतंकी टुंडा का नाम सामने आया, लेकिन वह पाकिस्तान भाग गया। लंबे समय तक कराची में रहने के बाद टुंडा 2013 में नेपाल के रास्ते भारत लौट रहा था तो दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने उसे पकड़ लिया।
दस मिनट में किए थे दो धमाकेटुंडा ने सोनीपत में 28 दिसंबर, 1996 को बस स्टैंड के पास स्थित तराना सिनेमाहॉल व 10 मिनट बाद गीता भवन चौक स्थित गुलशन मिष्ठान भंडार के पास बम विस्फोट किया था। इन दोनों घटनाओं में करीब एक दर्जन लोग घायल हुए थे, जिसके बाद इंदिरा कॉलोनी निवासी सज्जन सिंह के बयान के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज किया था। टुंडा के साथ ही उसके दो साथियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। आरोपी शकील व कामरान को 1998 में गिरफ्तार कर लिया था। सुनवाई के बाद शकील व कामरान बरी हो चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App