ताज़ा खबर
 

हरियाणा: सुरक्षा कर्मियों से मारपीट कर फरार हुए छह किशोर बंदी, पुलिस जुटी तलाश में

ये सभी बंदी कुख्यात अपराधी हैं और इनके फरार होने के मामले की जांच की जाएगी।
Author चंडीगढ़ | June 13, 2017 01:57 am
प्रतीकात्मक तस्वीर।

रविवार देर शाम हरियाणा के हिसार स्थित बाल सुधार गृह के सुरक्षा कर्मियों से मारपीट करके फरार हुए 6 बंदियों का अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। पुलिस की अपराध शाखा की दोनों टीमों के अलावा सदर व अन्य थानों की पुलिस उनकी तलाश में जुटी है वहीं दूसरे जिलों को भी फरार हुए बंदियों के बारे में जानकारी दी गई है।  बाल सुधार गृह के उप अधीक्षक के अनुसार ये सभी बंदी कुख्यात अपराधी हैं और इनके फरार होने के मामले की जांच की जाएगी। पुलिस ने इन बंदियों पर कर्मचारियों से मारपीट करने व फरार होने पर विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस के अनुसार फरार हुए बंदियों में रोहतक जिले के बहु अकबरपुर निवासी संजीत, भटनागर कालोनी रोहतक निवासी विवेक, झज्जर जिले के विरधाना निवासी विजय, भिवानी की न्यू डिफेंस कालोनी निवासी आशीष, डीघल निवासी कपिल और महम के कृष्णा नगर निवासी दीपक शामिल है।

पुलिस के अनुसार संजीत पर 1 अप्रैल 2016 को धारा 285 व शस्त्र अधिनियम के तहत, विवेक पर धारा 379 व 201 के तहत, विजय पर धारा 379बी व शस्त्र अधिनियम के तहत, आशीष पर धारा 302, 201 व 34 के तहत, कपिल पर धारा 223, 186 व 511 के तहत औरा दीपक पर बाकी पेज 8 पर शस्त्र अधिनियम के तहत केस दर्ज थे और वे इन्ही मामलों में बोस्टर्ल जेल में बंद थे। पुलिस के अनुसार बहु अकबरपुर निवासी संजीत नामक बंदी कुख्यात अपराधी संदीप गड़ोली गैंग का सदस्य है और उस पर बालियान गांव में एक युवक की हत्या के अलावा रोहतक में टोल प्लाजा पर पुलिस पर फायरिंग, बहु अकबरपुर और पालिका बाजार में फायरिंग करने के आरोप है। वहीं रोहतक जिला परिषद के चेयरमैन बलराज कुंडू मारने के लिए उसने तीन साथियों को भेजा था, लेकिन सफलता नहीं मिली। हाल ही में रोहतक पुलिस ने उसे उस समय हथियारों सहित धर दबोचा था जब वह अपने साथियों के साथ कहीं जा रहा था। बाल सुधार गृह से बंदियों के फरार होने के बाद पूरा पुलिस प्रशासन सकते में हैं।

पुलिस अधीक्षक मनीषा चौधरी ने पुलिस की अलग-अलग टीमों को उनकी धरपकड़ बारे निर्देश दिए हैं वहीं उन्होंने अन्य पुलिस अधिकारियों से भी इस संबंध में बातचीत की है। हिसार पुलिस ने बंदियों के संबंधित जिलों की पुलिस को भी उनकी फरारी से अवगत करवा दिया है। बाल सुधार गृह के उप सहायक सुरेंद्र सिहाग का कहना है कि फरार हुये सभी बंदी कुख्यात बदमाश है और इनमें से कई तो पहले भी फरार होने के प्रयास कर चुके थे। यदि बंदियों के फरार होने के मामले में किसी की लापरवाही है तो उसकी जांच की जाएगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.