ताज़ा खबर
 

बलात्कारी बाबा राम रहीम करता था मानव अंगों की तस्करी, डेरा में किसी के मरने पर हंसता था 

भारत में मानव अंगों की तस्करी करने पर अधिकतम 10 साल की जेल का प्रावधान है। इसके अलावा एक करोड़ रुपये तक के जुर्माने की भी प्रावधान है।

सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह ने बलात्कार के 15 साल पुराने मामले में गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिया है। (PTI)

दो साध्वियों से बलात्कार के जुर्म में 20 साल की जेल काट रहे डेरा सच्चा सौदा समिति के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के एक-एक राज अब बेपर्दा हो रहे हैं। उसके पूर्व सेवादार गुरदास सिंह ने एक टीवी चैनल को बताया है कि बाबा राम रहीम भक्तों के अंगों की तस्करी करता था। इस काम में एक गिरोह सक्रिय था। बतौर गुरदास सिंह शाह सतनाम जी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में अंग तस्करी का काम होता था। वहां डॉक्टरों की एक टीम इस काम में लगी होती थी। पूर्व सेवादार के मुताबिक अंग तस्करी में डेरा में नंबर दो की हैसियत रखने वाला डॉक्टर आदित्य इंसा और एम पी सिंह मुख्य रूप से शामिल था।

गुरदास सिंह के मुताबिक बाबा ने डेरे में किसी की मौत हो जाने पर अंगदान करने का नियम बना रखा था। सेवादारों से डेरा में समर्पण के लिए शपथ पत्र भी लिखवाया जाता था। उसके मुताबिक डेरा में जब किसी भक्त की मौत हो जाती थी, तब बाबा राम रहीम रोता नहीं बल्कि हंसता था। इसके बाद वह उसके शव की बोली लगाता था।

आपको बता दें कि भारत में मानव अंगों की तस्करी करने पर अधिकतम 10 साल की जेल का प्रावधान है। इसके अलावा एक करोड़ रुपये तक के जुर्माने की भी प्रावधान है। फिलहाल राम रहीम दो साध्वियों से बलात्कार के मामले में सलाखों के पीछ है। अगर उस पर मानव अंगों की तस्करी का भी मामला चलता है तो गुरमीत राम रहीम सिंह को और 10 साल की जेल हो सकती है। इसके अलावा एक करोड़ का जुर्माना भी उससे वसूला जा सकता है।

बता दें कि पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने 25 अगस्त को राम रहीम को बलात्कार का दोषी ठहराया था। उसके बाद उसे रोहतक की सुनेरिया जेल भेज दिया गया था। 28 अगस्त को जेल में ही बने स्पेशल अदालत में जज ने राम रहीम को दोनों बलात्कार केस में कुल बीस साल की सजा सुनाई है।

वीडियो देखिए: राम रहीम के पूर्व सेवादार ने लगाए मानव अंग तस्करी के संगीन आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App