ताज़ा खबर
 

हरियाणा के मुस्लिम इलाके की महिलाओं ने ‘भैया’ डोनाल्ड ट्रंप को भेजी राखियां

एनजीओ की उपाध्यक्ष मोनिका जैन ने कहा कि हमारा संगठन काफी समय से गांव की महिलाओं और लड़कियों के लिए कल्याण कार्यक्रम आयोजित करता आया है।
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

वैसे तो अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारतीय त्योहार रक्षा बंधन के बारे में कुछ भी नहीं जानते होंगे लेकिन फिर भी हरियाणा की बहनों ने अपने ट्रंप भाई के लिए राखी भिजवाई हैं। यह मामला मुस्लिम बहुल इलाके मेवात का है। एक एनजीओ ने 1001 राखी के धागे जो कि बहन-भाई का प्यार के प्रतीक हैं, उन्हें डोनाल्ड ट्रंप को भेज दिया है। सुलभ अंतरराष्ट्रीय समाजिक सर्विस संगठन द्वारा मरोरा गांव को गोद लिया गया है। यह संगठन इस गांव के कायाकल्प करने का काम बहुत दिनों से कर रहा है। यह गांव उस समय सुर्खियों में आया था जब इस गांव का प्रीतकात्मक नाम ट्रंप के ऊपर रख दिया गया था।

गांव का नाम ट्रंप ऱखे जाने पर प्रशासन को संगठन की यह बात रास नहीं आई और उन्होंने संगठन से गांव के नाम को गैरकानूनी रूप से बदले जाने की बात कहकर ट्रंप के नाम से लगे बोर्ड को हटाने के निर्देश दे दिए थे। एनजीओ की उपाध्यक्ष मोनिका जैन ने कहा कि हमारा संगठन काफी समय से गांव की महिलाओं और लड़कियों के लिए कल्याण कार्यक्रम आयोजित करता आया है। एनजीओ की छात्राओं ने डोनाल्ड ट्रंप की फोटो के साथ 1001 राखियां बनाई हैं और 501 राखियां छात्राओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए बनाई है।

जैन ने कहा कि गांव की महिलाएं और लड़कियां ट्रंप को अपने बड़े भाई की तरह मानती है। उन्होंने कहा कि शनिवार को कार्गो के द्वारा सभी राखियां डोनाल्ड ट्रंप को भिजवा दी गई ताकि 7 अगस्त को रक्षा बंधन वाले दिन वे सभी राखियां ट्रंप तक पहुंच जाएं। इसके साथ ही गांव वालों की इच्छा है कि मोदी और ट्रंप दोनों ही गांव में एक बार आकर उनसे मिले। इसी के साथ राखी के अवसर पर गांव की विधवा महिलाओं ने इच्छा जताई है कि वे मोदी से उनके आवास पर जाकर मिलें। 15 वर्षीय रेखा रानी ने कहा कि मैंने तीन दिन के अंदर ट्रंप भइया के लिए 150 राखियां बनाई।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.