ताज़ा खबर
 

अदालत से बाबा को भगाने की भी हुई थी कोशिश

राम रहीम की पेशी के दौरान हरियाणा पुलिस ने पूरे घटनाक्रम और सभी नाकेबंदियों की वीडियोग्राफी करवाई थी।

Author चंडीगढ़ | August 29, 2017 4:54 AM
डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह।

बलात्कार के मामले में राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद उसके सुरक्षा कर्मी ने दो बार डेरा प्रमुख को अदालत से भगाने का प्रयास किया था। पुलिस जांच में यह बात सामने आ चुकी है।  25 अगस्त को हुए घटनाक्रम की परतें तेजी से उघड़ रही हैं। राम रहीम की पेशी के दौरान हरियाणा पुलिस ने पूरे घटनाक्रम और सभी नाकेबंदियों की वीडियोग्राफी करवाई थी। पुलिस ने एक वीडियो फुटेज को आधार बनाकर पूरे घटनाक्रम की कड़ियों को आपस में जोड़ा तो इस बात के साफ संकेत मिले कि अदालत का फैसला आने के बाद राम रहीम को वहां से भगाने का प्रयास किया गया था। इसके आधार पर पुलिस ने इस केस में भारतीय दंड संहिता की धारा 224 भी जोड़ दिया है। इसके बावजूद राम रहीम के प्रति हरियाणा पुलिस और हरियाणा सरकार ने नरमी बरती। यही वजह रही कि राम रहीम के बजाय उनके सुरक्षा कर्मियों को ही दोषी बनाया गया है।

राम रहीम की सुरक्षा में तैनात एक पुलिस कमांडो ने अदालत परिसर में ही जहां अपने वरिष्ठ अधिकारी के साथ अभद्र व्यवहार किया था वहीं अदालत परिसर से सेना की पश्चिमी कमान तक ले जाते समय भी एक कमांडो ने राम रहीम को भगाने की कोशिश में पुलिस ने गाड़ी के आगे जैमर गाड़ी लगा दी थी।
यही नहीं पुलिस ने जांच के दौरान बाबा राम रहीम की गाड़ी से एक मशीनगन भी बरामद की है। यह सेना का हथियार है। पुलिस यह पता लगा रही है कि राम रहीम के पास यह हथियार कैसे आया।हरियाणा पुलिस ने उक्त कमांडो के खिलाफ तो बाबा को भगाने की साजिश रचने का मामला दर्ज कर लिया है लेकिन राम रहीम को फिर से छोड़ दिया है।

राम रहीम रोहतक जेल में, खामियाजा भुगतेंगे दूसरे कैदी चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम की वजह से रोहतक जेल बंद कैदियों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पडेÞगा। हालांकि रोहतक जेल में पहले से बलात्कार के कई दोषी बंद हैं लेकिन राम रहीम का केस हाई प्रोफाइल होने के कारण जेल प्रशासन ने अगले आदेशों तक कैदियों से होने वाली मुलाकात पर रोक लगा दी है।जेल प्रशासन ने सुरक्षा की दृष्टि से यह कदम उठाया है। जिसके तहत जेल में जेल में बंद कैदियों के साथ होने वाली मुलाकात अब नहीं होगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App