Manesar gangrape case human right notice sent to police - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हरियाणा: मानेसर सामूहिक बलात्कार मामले में मानवाधिकार आयोग पुलिस को नोटिस

मानेसर के औद्योगिक इलाके में 23 साल की महिला के कथित सामूहिक बलात्कार मामले पर हरियाणा के पुलिस महानिदेशक और गुरुग्राम पुलिस आयुक्त को नोटिस जारी किए हैं।

Author नई दिल्ली | June 14, 2017 2:34 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मानेसर के औद्योगिक इलाके में 23 साल की महिला के कथित सामूहिक बलात्कार मामले पर हरियाणा के पुलिस महानिदेशक और गुरुग्राम पुलिस आयुक्त को नोटिस जारी किए हैं। आयोग ने मंगलवार को कहा कि इस घटना से यह स्पष्ट होता है कि पुलिस द्वारा रात को सड़कों पर गश्त नहीं की जा रही है। महिला से 29 मई को गुरुग्राम से कुछ ही दूरी पर मानेसर में तीन लोगों ने कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया था। आरोपियों ने इससे पहले महिला की नौ माह की बच्ची की जमीन पर पटक कर हत्या कर दी थी। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक बीएस संधू को नागरिकों खासतौर से महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में आयोग को सूचित करने के निर्देश दिए गए हैं। डीजीपी और गुरुग्राम पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार को चार हफ्ते के भीतर जवाब देने के लिए कहा गया है।
इस घटना में किसी भी सरकारी सेवक की सीधे तौर पर संलिप्तता अभी तक स्पष्ट नहीं है। हालांकि, आयोग ने कहा कि मीडिया खबरों की दुखद बातें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र खासतौर से नोएडा, फरीदाबाद और गुरुग्राम जैसे क्षेत्रों में मौजूद डर, असुरक्षा और अनिश्चितता की सूचक हैं। नागरिकों विशेष तौर पर महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करना राज्य के मुख्य कर्तव्यों में से एक है। ऐसा दिख रहा है कि कानून प्रवर्तन एजंसियों द्वारा कुछ विशेष कदम तुरंत उठाए जाने की जरूरत है, ताकि इस तरह की घटनाएं फिर से न हों।

आयोग ने दिल्ली और फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त व नोएडा व गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों से भी सुझाव मांगे हैं। उसने पूछा है कि महिलाओं के खिलाफ ऐसे जघन्य अपराधों से निपटने के लिए एनसीआर क्षेत्र की कानून प्रवर्तन एजंसियां क्या संयुक्त कार्रवाई कार्यक्रम बना और लागू कर सकती हैं। आयोग ने कहा- छह हफ्ते के भीतर उनका जवाब आने की उम्मीद है। गुरुग्राम पुलिस के अनुसार तीनों ने लिफ्ट देने के बहाने महिला को गाड़ी में बैठाया और फिर उससे बलात्कार किया।आयोग ने मीडिया की खबरों के हवाले से कहा- महिला अपनी घायल बेटी के साथ सड़क पर चलती रही और एक फैक्टरी पहुंची। जहां एक गार्ड ने उसे सुबह होने तक इंतजार करने के लिए कहा। जब एक चिकित्सक ने बच्ची की जांच की और उसने उसे मृत घोषित कर दिया। महिला ने दिल्ली में तुगलकाबाद में अपने माता-पिता के घर जाने के लिए मेट्रो ट्रेन में अपनी बच्ची के शव के साथ यात्रा की। वहां एक चिकित्सक ने बच्ची की जांच की और उसे मृत घोषित कर दिया। बाद में महिला शिकायत दर्ज कराने के लिए दोबारा गुरुग्राम गई। दिल्ली और उसके पड़ोसी राज्यों में पिछले एक महीने में महिलाओं और नाबालिग लड़कियों पर क्रूर यौन हमले के कम से कम 10 मामले सामने आए हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App