ताज़ा खबर
 

महिला लिंगानुपात: ब्रांड एंबेसडरों की फौज लेकिन नतीजा ढाकके तीन पात

हरियाणा की भाजपा सरकार ने प्रदेश में ब्रांड एंबेसडरों की फौज खड़ी कर दी है। हालांकि उनकी नियुक्ति के नतीजे ढाक के तीन पात ही सिद्ध हुए हैं।

Author चंडीगढ़ | Published on: April 17, 2017 1:51 AM
पिछले साल हरियाणा में ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ कैम्पेन लॉन्च करते हुए पीएम मोदी, साथ में हैं बॉलीवुड अभिनेत्री माधुरी दीक्षित। (Photo Source: Indian Express/Jasbir Malhi)

संजीव शर्मा

हरियाणा की भाजपा सरकार ने प्रदेश में ब्रांड एंबेसडरों की फौज खड़ी कर दी है। हालांकि उनकी नियुक्ति के नतीजे ढाक के तीन पात ही सिद्ध हुए हैं। इनमें से अधिकतर ब्रांड एंबेसडर तो ऐसे हैं जो उद्घाटन के बाद कभी हरियाणा आए ही नहीं। हाल ही में हरियाणा सरकार द्वारा जारी की गई लिंगानुपात सुधार की रिपोर्ट इस बात की गवाह है कि प्रदेश में भले ही बेटियों की संख्या में सुधार हुआ हो लेकिन इस मामले में किसी भी ब्रांड एंबेसडर की कोई भूमिका नहीं रही, जबकि सरकार ने इस काम का जिम्मा तीन-तीन सेलीब्रिटी को सौंप रखा है। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार ने पूर्व की हुड्डा को पछाड़ते हुए एक कदम आगे छलांग लगाकर एक के बाद एक कई ब्रांड एंबेसडरों की नियुक्तियां कर डाली। प्रदेश में ब्रांड एंबेसडरों की नियुक्ति की प्रक्रिया उस समय शुरू हुई थी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पानीपत से ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान की शुरुआत की थी। फिल्म अभिनेत्री माधुरी दीक्षित को जब इस अभियान की जिम्मेदारी सौंपी गई थी तो उन्होंने प्रधानमंत्री की मौजूदगी में यह घोषणा की थी कि वह बेटियों को बचाने के लिए देशभर में काम करेंगी वहीं अपना ज्यादातर समय हरियाणा में देंगी। क्योंकि हरियाणा में लिंगानुपात का ढांचा बुरी तरह से बिगड़ा हुआ है। इसके बाद हरियाणा सरकार अपने स्तर पर प्रयास करती रही लेकिन माधुरी दीक्षित दोबारा कभी न तो हरियाणा आई और न ही उन्होंने हरियाणा के संदर्भ में विज्ञापनों आदि के माध्यम से कोई अपील आदि जारी की।

लंबे विवाद के बाद हरियाणा सरकार ने योग गुरु रामदेव को हरियाणा में योग के प्रचार प्रसार के लिए ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया था। योग गुरु रामदेव इस वर्ष अंतरराष्टÑीय योग दिवस से पहले बाकी आयोजित हुए कार्यक्रमों में तो शामिल हुए लेकिन उसके बाद उन्होंने योग को बढ़ावा देने के लिए जनता व जनप्रतिनिधियों के लिए कार्यक्रम नहीं किया। दिलचस्प बात यह है कि हरियाणा सरकार ने उन्हें स्थायी रूप से स्टेट गेस्ट का दर्जा प्रदान कर रखा है। हरियाणा सरकार उन्हें दर्जा प्राप्त कैबिनेट मंत्री बनाना चाहती थी लेकिन विपक्ष के विरोध के चलते यह मामला बीच में छोड़ दिया गया। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को विश्वास में लिए बगैर मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने फिल्म अभिनेत्री परिणिती चोपड़ा को हरियाणा में ‘बेटी-बचाओ,बेटी-पढ़ाओ’ अभियान का ब्रांड एंबेसडर बनाया था। परिणिती चोपड़ा गुड़गांव में आयोजित हुए अपने नामांकित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद दोबारा कभी हरियाणा में नहीं आई। परिणिती की नियुक्ति पर हरियाणा सरकार आज भी बंटी हुई है।

इसके अलावा टीबी के लिए जागरूकता फैलाने के मकसद से गुड़गांव से शुरू किए गए राष्टÑव्यापी अभियान के दौरान खट्टर ने महानायक अमिताभ बच्चन को टीबी के अलावा हरियाणा बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ अभियान से जुड़ने का आग्रह किया था। इसे उन्होंने सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया था लेकिन अमिताभ ने भी इस दिशा में कोई योगदान नहीं दिया। इसके बाद हरियाणा के खेल व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने रियो ओलंपिक विजेता साक्षी मलिक के वापस लौटने पर उन्हें ‘बेटी बचाओ, बेटी-पढ़ाओ’ अभियान की ब्रांड एंबेसडर घोषित किया था। साक्षी मलिक ने भी हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया पर अन्य ब्रांड एंबेसडरों की तर्ज पर साक्षी मलिक ने भी अभी तक इस अभियान में कोई योगदान नहीं दिया है। हरियाणा सरकार ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए इस वर्ष सूरजकुंड मेले के दौरान अभिनेता धर्मेंद्र को पर्यटन के क्षेत्र में अपना ब्रांड एंबेसडर तैनात किया था। हरियाणा के पर्यटन मंत्री रामबिलास शर्मा की इस मामले में फिल्म अभिनेता धर्मेंद्र के साथ कई मुलाकातें भी हुई। सूरजकुंड मेले के बाद धर्मेंद्र भी कभी हरियाणा में नहीं आए।

इसी की तर्ज पर हरियाणा पर्यटन विभाग ने फिल्म अभिनेत्री हेमा मालिनी को कुरुक्षेत्र समेत अन्य कई धार्मिक स्थलों की ब्रांडिंग की जिम्मेदारी सौंपते हुए ब्रांड एंबेसडर बनने का प्रस्ताव दिया था। हेमा ने इस प्रस्ताव को तो स्वीकार नहीं किया अलबत्ता वह हाल ही में आयोजित अंतरराष्टÑीय गीता महोत्सव में हिस्सा जरूर ले चुकी हैं। हरियाणा की पूर्व हुड्डा सरकार ने 2012 में लंदन ओलिंपिक गेम्स के कांस्य विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त को हरियाणा स्वास्थ्य विभाग का ब्रांड एंबेसडर बनाया था। हरियाणा के तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा इस संबंध में घोषणा किए जाने के बाद योगेश्वर ने कभी भी सार्वजनिक रूप से हरियाणा में किसी परियोजना के लिए योगदान नहीं दिया।

ब्रांड एंबेसडरों की नियुक्ति के मामले में हरियाणा सरकार की तरह चुनाव आयोग भी इस मामले में पीछे नहीं है। वर्ष 2014 में हरियाणा चुनाव आयोग ने छोटे पर्दे की कलाकार मेघना मलिक को ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया था। मेघना औरों के मुकाबले थोड़ी अधिक सक्रिय तो रही लेकिन आशातीत परिणाम नहीं आए। इसके चलते हाल ही में पैरालंपिक विजेता दीपा मलिक को चुनाव आयोग का ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया गया है। इसके अलावा फरीदाबाद नगर निगम ने फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए चलाए जाने वाले अभियान के लिए गायिका रिचा शर्मा को अपने जिला का ब्रांड एंबेसडर बनाया है। अन्य ब्रांड एंबेसडरों के मुकाबले रिचा शर्मा ने अपने जिला में कुछ योगदान जरूर दिया है। दो साल में आठ ब्रांड एंबेसडरों की नियुक्ति और उनकी कार्यशैली शून्य होने के बाद अब सरकार क्रिकेट खिलाड़ी कपिल देव को अपने साथ जोड़ने की तैयारी में है। कपिल देव मूल रूप से हरियाणा के रहने वाले हैं। हरियाणा के खेलकूद विभाग द्वारा तैयार की गई योजना के अनुसार कपिल देव हरियाणा के युवा खिलाड़ियों को क्रिकेट की कोचिंग देते हुए भविष्य के कपिल और सहवाग तैयार करेंगे।

 

अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जारी हुआ जमानती वारंट; पीएम मोदी की शैक्षणिक योग्यता पर की थी टिप्पणी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गुड़गांव: एम्स ले जाते वक्त रास्ते में एंबुलेंस का इंधन खत्म, 3 महीने के बच्चे की हुई मौत
2 प्रेमिका की हत्या कर खुद को मारी गोली, मौत, घरवालों ने कहा था – लड़की नाबालिग है थोड़ा इंतजार कर लो
3 एंटी-रोमियो की तर्ज पर हरियाणा में बना ‘ऑपरेशन दुर्गा’, पहले ही दिन 72 मनचलों को पकड़ा