ताज़ा खबर
 

हरियाणा के मंत्री की कार पर हमला, लगातार विवादित बयानों से चर्चा में रहते हैं अनिल विज

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, "इस बारे में जब मैंने उन दोनों युवकों से पूछा तो उन्होंने बताया कि वे एससी/एसटी एक्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने दोनों को हिरासत में ले लिया और मैं पानीपत से निकलकर अपने क्षेत्र अंबाला आ गया।"

Author पानीपत | March 30, 2018 5:36 PM
हरियाणा के कैबिनेट मंत्री अनिल विज। (फोटो सोर्स- एएनआई)

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की कार पर शुक्रवार को पत्थरों से हमला किए जाने का मामला सामने आया है। अनिल विज की कार पर यह हमला पानीपत में किया गया। पुलिस ने इस मामले में हमला करने वाले दो व्यक्तियों को हिरासत में ले लिया है। अनिल विज पर यह हमला उस समय किया गया जब वे अपनी कार के अंदर बैठ रहे थे। इस हमले में मंत्री की गाड़ी का आगे का शीशा टूट चुका है। हालांकि इस हमले में अनिल विज को कोई चोट नहीं आई है। बता दें कि अनिल विज पानीपत शिकायत कमेटी की एक बैठक में शामिल होने के लिए गए थे।

अनिल विज पर जिस समय यह हमला हुआ उस वक्त डिप्टी कमीश्नर और पानीपत के सुप्रींटेंडेंट ऑफ पुलिस घटनास्थल पर मौजूद थे। इंडियन एक्सप्रेस से फोन पर बातचीत के दौरान अनिल विज ने कहा, “जिन दो लोगों ने हमला किया उन्हें देखकर ऐसा लग रहा था कि उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। मैं कार में बैठने ही वाला था कि दो युवकों ने मेरी गाड़ी पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। वास्तव में यह एक सुरक्षा उल्लंघन है जो कि काफी गंभीर मामला है।”

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “इस बारे में जब मैंने उन दोनों युवकों से पूछा तो उन्होंने बताया कि वे एससी/एसटी एक्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने दोनों को हिरासत में ले लिया और मैं पानीपत से निकलकर अपने क्षेत्र अंबाला आ गया।” फिलहाल पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। वहीं सूत्रों ने खुलासा किया है कि इस घटना के कारण अनिल विज जिला प्रशासन के उच्च अधिकारियों से नाखुश हैं। आपको बता दें कि अनिल विज अक्सर अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। हाल ही में स्वास्थ्य मंत्री ने राष्ट्रगान से अधिनायक शब्द हटाने की मांग कर दी थी, जिसे लेकर विवाद खड़ा हो गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App