ताज़ा खबर
 

पुलिस कार्रवाई में मारे गये राम रहीम के समर्थकों के लिए मुआवजे की मांग, BJP सरकार के मंत्री ने दिया ये तर्क

हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने तर्क दिया है कि पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हिंसा का शिकार हुए पीड़ितों को मुआवजा मिला था, तो वही फार्मूला डेरा सच्चा के समर्थकों के साथ क्यों नहीं लागू हो सकता है।

राम रहीम को दोषी करार दिये जाने के बाद पंचकुला में आगजनी का एक दृश्य (फाइल फोटो-एपी)

हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने कहा है कि 25 अगस्त को पुलिस की कार्रवाई में मारे गये राम रहीम के समर्थकों को मुआवजा मिलना चाहिए। राम रहीम को रेप के एक मामले में दोषी ठहराये जाने के बाद हरियाणा के पंचकुला, सिरसा और पंजाब के बठिंडा समेत कई शहरों में हिंसा भड़क उठी थी। इस दौरान भीड़ को शांत करने के लिए पुलिस ने गोली चलाई जिसमें कई दर्जन लोग मारे गये। पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक इस हिंसा में कुल 41 लोगों की मौत हुई थी। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने तर्क दिया है कि पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हिंसा का शिकार हुए पीड़ितों को मुआवजा मिला था, तो वही फार्मूला डेरा सच्चा के समर्थकों के साथ क्यों नहीं लागू हो सकता है। इधर हरियाणा पुलिस ने 43 वांटेड क्रिमिनल्स की सूची जारी की है। इनमें राम रहीम की कथित बेटी हनीप्रीत इंसा का नाम सबसे ऊपर है। पुलिस का कहना है कि इन लोगों पर आगजनी, तोड़फोड़ और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप है।

पंचकुला की सीबीआई की विशेष अदालत ने राम रहीम को 2 साध्वियों के साथ रेप का दोषी मानते हुए 20 साल की सजा सुनाई है। राम रहीम इस वक्त रोहतक के सुनारिया जेल में बंद है। बता दें कि हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज का विवादों से पुराना नाता है। अनिल विज कह चुके हैं कि एक हिन्दू आतंकवादी नहीं हो सकता है। उनका ये भी बयान रहा है कि जो लोग बीफ खाये बिना नहीं रह सकते हैं उन्हें हरियाणा नहीं आना चाहिए। बता दें कि पिछले साल अगस्त में हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा का दौरा किया था और अपने फंड से डेरा को 50 लाख रुपये देने की घोषणा की थी। यहां यह भी बताना जरूरी है कि 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव में डेरा समर्थकों ने बीजेपी को समर्थन का ऐलान किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App