ताज़ा खबर
 

डेरे को अनुदान देने वाले अनिल विज और रामबिलास हुए गायब

पंचकूला में हुई हिंसा को दो दिन बीत चुके हैं और हरियाणा के किसी भी मंत्री ने इस घटना पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

Author चंडीगढ़ | August 29, 2017 4:37 AM
हरियाणा के स्‍वास्‍थ्‍य और खेल मंत्री अनिल विज

हरियाणा में डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने वाली भगवा सरकार का एक कड़वा सच सामने आया है। राम रहीम के गुंडों द्वारा पंचकूला और सिरसा में फैलाए गए आतंक में अब तक 38 लोगों की मौत हो चुकी है और अक्सर ट्विटर पर सक्रिय रहने वाले हरियाणा के मंत्रियों को जैसे सांप सूंघ गया है। अब वे गायब हैं। हरियाणा इस समय उन 38 लोगों की मौत का कलंक अपने माथे पर लिए हुए है जो पंजाब, राजस्थान व उत्तर प्रदेश से यहां पहुंचे हुए थे। पंचकूला में हुई हिंसा को दो दिन बीत चुके हैं और हरियाणा के किसी भी मंत्री ने इस घटना पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हाई कोर्ट यह स्पष्ट टिप्पणी कर चुका है कि राजनीतिक लाभ के लिए पंचकूला को जलने दिया गया। ‘जनसत्ता’ ने जब प्रदेश के मुख्यमंत्री व सभी मंत्रियों के ट्विटर अकांउट खंगाले तो एक कड़वा सच सामने आया।
हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्णलाल पंवार ट्विटर पर ज्यादा सक्रिय नहीं है। उन्होंने 15 अगस्त के बाद कोई ट्वीट नहीं किया है। समाज कल्याण मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, राज्य मंत्री मुनीष ग्रोवर भी ट्विटर पर कम सक्रिय हैं। मंत्री कर्ण देव कंबोज भी पांच अगस्त के बाद कुछ नहीं किया। लेकिन कुछ मंत्री जलते हुए हरियाणा के लिए सहानुभूति के दो शब्द कहने के बजाय आकाओं को बधाई देने में मशगूल रहे।

राम बिलास शर्मा : इस मामले में सबसे कमजोर कड़ी साबित हुए हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा जो अंतिम समय तक राम रहीम के नाम की माला जपते रहे। सीबीआइ अदालत जब राम रहीम के विरूद्ध फैसला आरक्षित रख चुकी थी तब भी वे डेरा प्रमुख के चरणों में नतमस्तक हो रहे थे।
रामबिलास ने न केवल डेरे को 51 लाख दिए बल्कि फैसले से दो दिन पहले उन्होंने डेरा अनुयायियों को धारा 144 से छूट होने का बयान देकर पूरी तरह से उकसाने का काम किया। रामबिलास के बयान ने डेरा प्रेमियों का मनोबल बढ़ाया और वह अपने मंसूबों को अंजाम तक पहुंचाने के लिए पंचकूला की तरफ बढ़ते रहे। रामबिलास ने 23 अगस्त को ट्वीट करके लोगों को यह बताया कि अगले तीन दिन तक प्रदेश के शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। इसके बाद 24 अगस्त को राम बिलास का ट्विटर अकांउट शांत रहा। 25 अगस्त को जब हरियाणा जल रहा था तो हरियाणा के डेरा प्रेमी शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी और अमित शाह को राज्यसभा सदस्य चुने जाने पर बधाई देने का ट्वीट कर रहे थे।

अनिल विज : हरियाणा के स्वास्थ्य और खेलकूद मंत्री अनिल विज को विपक्षी राजनीतिक दल अक्सर ट्विटर मंत्री कहते हैं। अनिल विज हरियाणा के वे मंत्री हैं जो गुरमेहर कौर, लक्षित हमले और पाकिस्तान में होने वाली उन घटनाओं पर भी ट्वीट करते हैं या बयान जारी करते हैं जिनका हरियाणा से कोई सरोकार नहीं होता। अनिल विज ने पिछले साल डेरा सच्चा सौदा में हुए एक कार्यक्रम में भाग लेकर 50 लाख रुपए का अनुदान दिया था। पहले वर्णिका छेड़छाड़ कांड और अब डेरा सच्चा सौदा के अनुयायियों का उत्पात। अनिल विज ने अपने ट्विटर पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। उन्होंने 22 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट द्वारा तीन तलाक के मुद्दे पर ट्वीट किया। उसके बाद 23 अगस्त को खिलाड़ियों को सम्मानित करने वाली एक खबर को अपने ट्विटर अकांउट पर शेयर किया। 24 अगस्त के बाद उनका ट्विटर अकांउट बंद पड़ा है।

विपुल गोयल : हरियाणा के उद्योग और वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल प्रदेश के वे मंत्री हैं जिन्होंने फरीदाबाद में मुख्यमंत्री की पहली डिजिटल रैली का आयोजन करवाया था। विपुल गोयल भी ट्विटर पर खासे सक्रिय रहते हैं। उद्योग मंत्री विपुल गोयल भी प्रदेश के अन्य मंत्रियों की तरह इस घटना से बेखबर रहे। विपुल गोयल ने 24 अगस्त को अपने ट्विटर पर गणेश स्थापना के फोटो शेयर किए तो 25 अगस्त को ट्वीट करके लोगों को जहां गणेश चतुर्थी की बधाई दी। एक और ट्वीट में उन्होंने केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को जन्मदिन की बधाई दी। विपुल गोयल को तीन दिन बाद भी हरियाणा में हुई हिंसा की खबर नहीं हुई।
कविता जैन : हरियाणा की मनोहर सरकार में एक मात्र महिला मंत्री कविता जैन अक्सर ट्विटर पर सक्रिय रहती हैं। प्रदेश में अन्य मंत्रियों के मुकाबले कविता जैन का मीडिया विंग खासा मजबूत है लेकिन इस मामले में वे भी संवेदनहीन रहीं। कविता जैन ने अपने ट्विटर पर 23 अगस्त को अमर शहीद राजगुरू को श्रद्धांजलि देते हुए एक ट्वीट किया। 24 और 25 अगस्त को कविता जैन का ट्विटर शांत रहा। 36 लोगों की मौत और करोड़ों रुपए की संपत्ति नष्ट होने के बाद वे 26 को ट्विटर पर दिखाई दीं। उन्होंने ट्वीट करके इस हिंसा में हुई तोड़फोड़ का मुआवजा देने के लिए की जाने वाली कार्रवाई की जानकारी तो दी लेकिन इतने बड़े स्तर पर हुई मौतों पर कोई शोक नहीं जताया।

कैप्टन अभिमन्यु : हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ट्विटर पर सबसे अधिक सक्रिय रहते हैं। अपने प्रत्येक कार्यक्रम के बारे में कैप्टन अभिमन्यु ट्विटर पर जानकारी देते हैं। 25 अगस्त को जब पूरा हरियाणा जल रहा था और सेना पंचकूला व सिरसा में मोर्चा संभाले हुए थी तो कैप्टन अभिमन्यु अपने कार्यक्रमों में व्यस्त थे। अभिमन्यु ने 25 अगस्त को अपने ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने के संबंध दिए गए बयान को साझा किया और एक अन्य ट्वीट में उन्होंने अपने कार्यक्रम के फोटो शेयर किए। अभिमन्यु ने भी इस घटनाक्रम पर अब तक कोई ट्वीट नहीं किया।

ओपी धनखड़ : हरियाणा के कृषि मंत्री ओपी धनखड़ के फोटो लगे ट्विटर पर दो अकांउट दिखाई देते हैं। हरियाणा में केवल धनखड़ ही ऐसे मंत्री हैं जिन्होंने ट्वीट करके हरियाणा वासियों व देशवासियों के लिए 25 अगस्त को शांति, संयम, मर्यादा व धैर्य का वक्त करार देते हुए सभी से शांति की अपील की थी।
राव नरबीर सिंह : हरियाणा के लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह भी अपने अन्य साथियों से अलग नहीं थे। हिंसा के बाद 26 अगस्त को जब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को बदलने की बात चली तो भाजपा के एक गुट ने राव नरबीर के नाम का प्रचार शुरू कर दिया। इसके उलट राव नरबीर ने 24 अगस्त को ट्वीट करके अमित शाह को राज्यसभा में पहुंचने पर बधाई दी। 25 अगस्त को राव नरबीर ने खुद इस घटनाक्रम पर कोई ट्वीट नहीं किया अलबत्ता उन्होंने राष्टÑपति रामनाथ कोविंद द्वारा किए गए ट्वीट को दोबारा ट्वीट किया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App