ताज़ा खबर
 

हरियाणा: घूंघट के बाद नया विवाद अब मुख्यमंत्री खट्टर को बताया ‘भगवान’

इसे गाने वाला कोई और नहीं बल्कि मुख्यमंत्री के लिए अक्सर सिरदर्द बनने वाले हरियाणा के कथित ‘रॉक स्टार’ रॉकी मित्तल हैं।

Haryana, Haryana Parliamentary secretaries, Haryana CM ML Khattar, BJP, Delhi and Haryana, aap, Arvind kejriwal, aap 20 mlas, aap Parliamentary secretaries, Hindi news, News in Hindi, Jansattaहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर। (फाइल फोटो)

हरियाणा सरकार के लोक संपर्क विभाग की पत्रिकाओं के कारण शुरू हुआ ‘घंूघट’ विवाद अभी समाप्त भी नहीं हुआ था कि विभाग की ओर से हरियाणा सरकार के एक हजार दिन पूरे होने पर तैयार किए गए गीत ने नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है। इस गीत में मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को ‘भगवान’ बताया गया है। इसी गीत के कुछ अंशों को काटकर जिंगल के रूप में विभिन्न टीवी चैनलों तथा रेडियो पर भी चलाया जा रहा है। इस गीत को जहां लोक संपर्क विभाग के अधिकारियों की कमेटी की देखरेख में तैयार किया गया है, वहीं इसे गाने वाला कोई और नहीं बल्कि मुख्यमंत्री के लिए अक्सर सिरदर्द बनने वाले हरियाणा के कथित ‘रॉक स्टार’ रॉकी मित्तल हैं। रॉकी मित्तल के इस गीत पर खट्टर को सफाई देनी पड़ी है।

करीब दो माह पहले हरियाणा लोक संपर्क विभाग की मासिक पत्रिका कृषि संवाद में घूंघट वाली महिला का फोटो छपने पर विवाद हुआ था। अब प्रदेश सरकार ने अपने कार्यकाल के एक हजार दिन पूरे होने के मौके पर करीब दो मिनट पांच सेकेंड का एक गीत जारी करके अपनी अब तक की उपलब्धियां गिनाई हैं। इस गीत के गीतकार एवं गायक मुख्यमंत्री के विवादित प्रचार सलाहकार ‘रॉकी मित्तल’ हैं। रॉकी ने लोकसभा चुनाव के दौरान जहां मोदी चालीसा गया था, वहीं हरियाणा में खट्टर सरकार बनने के बाद उन्होंने हरियाणा सरकार के लिए भी गीत गाए। इस बीच विवाद के चलते रॉकी मित्तल की सरकार ने छुट्टी भी कर दी थी। अपने रसूख के बाद सरकार में दोबारा प्रवेश पाने में कामयाब हुए रॉकी ने अपनी दूसरी पारी में यह पहला गीत गाया है। सरकार की उपलब्धियों वाला यही विज्ञापन सरकार के लिए मुसीबत बन गया है। इसमें मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को ‘भगवान’ बताया गया है जबकि गीत के अंत में रॉकी ने खुद को क्रांतिकारी की संज्ञा देकर पूरी स्थिति को बयान कर दिया है। मुख्यमंत्री को भगवान बताने के बाद रॉकी मित्तल भले ही शांत हो गए हैं लेकिन लोक संपर्क विभाग के अधिकारियों की कार्यशैली एक बार फिर से कठघरे में हैंंंं।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत माता की जय नहीं बोलने पर इमाम की हुई प‍िटाई तो समर्थन में आए अकाली, मस्‍ज‍िद जाकर की मुलाकात
2 टी-20 वर्ल्‍ड कप जिताने वाले क्रिकेटर जोगिंदर शर्मा के पिता पर हमला, चाकू मारकर लूट‍ लिया
3 जुनैद हत्‍याकांड: पुलिस ने कहा- ‘बीफ’ की वजह से नहीं हुई हत्‍या, दो दिन की रिमांड पर मुख्‍य आरोपी
ये पढ़ा क्या?
X