ताज़ा खबर
 

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने सुसाइड नोट FB पर डालकर की आत्महत्या की कोशिश, पुलिस को कॉल कर फ्रेंड्स ने बचाया

वरुण ने फेसबुक पर सुसाइड नोट डालते हुए लिखा था, 'मैं वरुण मलिक पूरे होश में अंदरूनी संघर्ष की वजह से अपनी जिंदगी को खत्म करना चाहता हूं।'

representative image

गुड़गांव में एक एमएनसी में काम करने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने फेसबुक पर सुसाइड नोट डालकर आत्महत्या करने की कोशिश की, लेकिन उनके दोस्तों ने उसे बचा लिया गया। वरुण नाम के 30 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने मंगलवार को फेसबुक पर अपनी कटी हुई कलाई और सुसाइड नोट पोस्ट किया था। जब उस पोस्ट को उसके दोस्तों ने देखा तो उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद उसकी जान बचा ली गई। अभी वह अस्पताल में भर्ती है।

Read Also: कॉलेज ने दो लाख रुपए फीस भरने को कहा, दूसरे दिन MBBS छात्र ने कर लिया सुसाइड

वरुण गुड़गांव के उद्योग विहार इलाके में एक एमएनसी में काम करते हैं। वरुण ने फेसबुक पर सुसाइड नोट डालते हुए लिखा था, ‘मैं वरुण मलिक पूरे होश में अंदरूनी संघर्ष की वजह से अपनी जिंदगी को खत्म करना चाहता हूं। इसके लिए कोई भी जिम्मेदारी नहीं है। मेरे साथ कोई नहीं है। मैं अकेला हूं। मेरे पास आत्महत्या करने के अलावा कोई चारा नहीं है।’

जब उसकी टाइमलाइन पर उसके दो दोस्तों ने यह पोस्ट देखी तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी और मदद के लिए मैसेज भी लिखा। उन्होंने फेसबुक पर लिखा, ‘गुड़गांव में रहने वाले और जो यह जानते हैं कि वरुण कहां रहता है वे तुरंत उसके फ्लैट पर पहुंच कर उसकी मदद करें और पुलिस को सूचना दें।’

Read Also: अपार्टमेंट से कूद इंजीनियरिंग छात्रा ने किया था सुसाइड, एक महीने तक पेरेंट्स ने घर में रखा शव, दोबारा होगा पोस्टमार्टम

सूचना मिलने पर पुलिस वरुण के सेक्टर10 स्थित फ्लैट पर पहुंची। वहां पहुंचने पर उन्होंने देखा कि वह बेहोश फर्श पर पड़ा है। उसके बाद पुलिस ने उसे उसे नजदीकी अस्पताल में पहुंचाया। अभी उसकी हालात स्थिर बताई जा रही है। वरुण ने शादी नहीं की है और वह अपने पिता के साथ रह रहा है। पुलिस के मुताबिक उसकी मां की मौत कुछ महीने पहले हो गई थी। जिसके बाद वह परेशान था। उसकी मां ने उसे किडनी डोनेट की थी।

Next Stories
1 सुभाष चंद्रा बोले- कांग्रेस वाले जैसे वोट देने आए मैं अपनी हार तय मान गया और बूथ छोड़ कर चला गया था
2 सुभाष चंद्रा बोले- कांग्रेस वाले जैसे वोट देने आए मैं अपनी हार तय मान गया और बूथ छोड़ कर चला गया था
3 चलती मेट्रो में हुआ कवि सम्मेलन, तीन भाषाओं में सुनाई गईं कविताएं
ये पढ़ा क्या?
X