ताज़ा खबर
 

खुले मैदान की जगह मस्जिदों में ही नमाज पढ़ें मुसलमान-हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर बोले

सीएम ने कहा, "कानून-व्यवस्था लागू कराना हमारा काम है, खुले में नमाज अब ज्यादा पढ़े जा रहे हैं, नमाज मस्जिदों या ईदगाह में पढ़े जाने चाहिए ना कि सार्वजनिक स्थानों पर।"

गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने की घटना पर सीएम खट्टर ने प्रतिक्रिया दी थी।

दिल्ली से सटे गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने पर हुए तनाव पर सीएम ने प्रतिक्रिया दी है। बीजेपी शासित हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि सार्वजनिक स्थानों के बजाय नमाज मस्जिद या ईदगाह में पढ़े जाने चाहिए। बता दें कि गुरुग्राम के सेक्टर-53 में मुसलमानों द्वारा एक सार्वजनिक मैदान में नमाज पढ़े जाने का कुछ युवकों ने विरोध किया था। युवकों ने नमाज पढ़ने आए युवकों को धमकाकर भगा दिया था। ये घटना 20 अप्रैल को हुई थी। बाद में पुलिस ने इस मामले में 6 युवकों को गिरफ्तार किया था। इस मुद्दे पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने रविवार (6 मई) को प्रतिक्रिया दी। सीएम ने कहा, “कानून-व्यवस्था लागू कराना हमारा काम है, खुले में नमाज अब ज्यादा पढ़े जा रहे हैं, नमाज मस्जिदों या ईदगाह में पढ़े जाने चाहिए ना कि सार्वजनिक स्थानों पर।” बता दें कि पिछले शुक्रवार (4 मई ) को कई हिन्दू संगठनों ने गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़े जाने का विरोध किया। इन संगठनों की मांग है कि सार्वजनिक स्थानों पर नमाज नहीं पढ़ा जाना चाहिए। सरकार को इस मामले में कार्रवाई करनी चाहिए।

इससे पहले इस मामले में गिरफ्तार 6 युवक जब बेल लेकर वापस आए थे तो हिन्दू संगठनों ने उनका स्वागत किया था और सरकार से मांग की थी कि इन पर किये गये केस को वापस लिया जाए। 4 मई को मुस्लिम समुदाय के लोग गुरुग्राम में कई जगहों पर जब नमाज पढ़ने पहुंचे तो हिन्दू संगठन उनका विरोध करने लगे। शुक्रवार को दक्षिणपंथी संगठन के लोग अतुल कटारिया चौक, सिकंदरपुर, इफ्को चौक, एमजी रोड और साइबर पार्क नजदीक स्थित खुल प्लॉट पर गये और नमाज पढ़ने वाले लोगों से कहा कि वे यहां से चले जाएं। इस दौरान यहां विवाद बढ़ने से रोकने के लिए पुलिस तैनात की गई थी। मुस्लिम संगठनों ने कहा कि वे इन इलाकों में शांतिपूर्वक नमाज पढ़ते थे, लेकिन उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App