ताज़ा खबर
 

हरियाणा मारुति सुजुकी फैक्ट्री हिंसा: कोर्ट ने सुनाई 13 दोषियों को आजीवन और 4 को पांच साल जेल की सजा

18 जुलाई 2012 को श्रमिकों के प्रदर्शन के दौरान मारुति सुजुकी के जनरल मैनेजर (HR) अवनीश देव की मौत हो गई थी।
मामले में 148 कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया था। (Photo Source: Express archive)

साल 2012 में हरियाणा में मारुति सुजुकी फैक्ट्री में हुई हिंसा के मामले में कोर्ट ने सभी दोषियों के सजा का एलान कर दिया है। शनिवार को कोर्ट ने 13 दोषियों को आजीवन कारावास, 4 को पांच साल की जेल और अन्य 14 को भी जेल की सजा मुकर्रर की है। 10 मार्च को हरियाणा की गुड़गांव जिला अदालत ने 31 आरोपियों को दोषी करार दिया था जबकि 117 को बरी कर दिया था। मामले की सुनवाई गुड़गांव के अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश आरपी गोयल कर रहे थे। कर्मचारियों पर देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के मानेसर स्थित प्लांट पर हिंसक झड़प में लिप्त रहने के आरोप थे। कोर्ट ने करीब साढ़े चार साल के बाद अपना फैसला सुनाया है। अभियुक्तों में अधिकतर फैक्ट्री के मजदूर थे।

गौरतलब है कि 18 जुलाई 2012 को श्रमिकों के प्रदर्शन के दौरान मारुति सुजुकी के जनरल मैनेजर (HR) अवनीश देव की मौत हो गई थी। तब आरोप लगे थे कि उन्हें जिंदा जलाकर मारा गया था। हिंसा में कई लोग घायल भी हुए थे। घटना के बाद करीब 100 प्रबंधकों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था। हिंसा के बाद मारुति के मानेसर प्लांट को एक महीने के लिए बंद करना पड़ा था। दरअसल, कंपनी ने कम कीमत वाले कुछ अस्थायी कर्मचारियों की भर्ती कर ली थी, जिसके विरोध में कंपनी के कर्मचारी हड़ताल करने लगे। 18 जुलाई को यह हड़ताल हिंसाक हो गई थी। अविनाश देव की उस समय मौत हो गई जब प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों ने कथित तौर फैक्ट्री में आग लगा दी।

मामले में 148 कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया था जिसमें से 11 अभी भी जेल में हैं जबकि बाकियों को बेल पर रिहा कर दिया गया था। साथ ही कंपनी ने कार्रवाई करते हुए 525 श्रमिकों को बाहर का रास्ता दिखा दिया था। कर्मचारी यूनियन लगातार मजदूरों की रिहाई की मांग कर रही है।

वीडियो देखिए- मारुति फैक्ट्री हिंसा: हरियाणा कोर्ट ने 31 आरोपियों को दोषी करार दिया, 117 बरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.