ताज़ा खबर
 

हरियाणाः काले ब्राह्मण पर पूछा था परीक्षा में सवाल, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आयोग के चेयरमैन को किया सस्पेंड

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग(एचएसएससी) की सिविल जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा में काले ब्राह्मण और ब्राह्मण कन्या को लेकर आपत्तिजनक सवाल पूछने का मामला गरमाया तो मनोहर लाल खट्टर सरकार ने चेयरमैन भारत भूषण भारती को निलंबित कर दिया है।

Author नई दिल्ली | May 17, 2018 4:39 PM
हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर (फाइल फोटो)

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग(एचएसएससी) की सिविल जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा में काले ब्राह्मण और ब्राह्मण कन्या को लेकर आपत्तिजनक सवाल पूछने का मामला गरमाया तो मनोहर लाल खट्टर सरकार ने चेयरमैन भारत भूषण भारती को निलंबित कर दिया है। ताकि मामला ठंडा पड़ सके। सरकार की ओर से कहा गया है कि मामले की जांच पूरी होने तक भारत-भूषण भारती निलंबित रहेंगे। हरियाणा के शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने सरकार की इस कार्रवाई की पुष्टि की है। बताया जा रहा है कि सरकार जूनियर इंजीनियर की परीक्षा का प्रश्नपत्र तैयार करने वाले परीक्षक के खिलाफ केस दर्ज कर सकती है।
दरअसल परीक्षा में ब्राह्मणों पर आपत्तिजनक सवाल पूछे जाने के विरोध में ब्राह्मण मंत्रियों, विधायकों और अन्य ब्राह्मण नेताओं ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की। करीब दो घंटे तक चली बैठक के बाद मुख्यमंत्री आयोग के चेयरमैन भारत-भूषण भारती को निलंबित करने पर राजी हुए। हरियाणा के इतिहास में यह पहला मौका है, जब कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन को किसी मामले में निलंबित किया गया है। इससे पहले हरियाणा मंत्री समूह की बैठक में भी यह मामला छाया रहा था। मंत्रियों ने आयोग के चेयरमैन को हटाने की मांग की थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने ब्राह्मण संगठनों से जुड़े प्रमुख नेताओं और विधायकों को बातचीत के लिए बुलाया था। बैठक में जब लोगों ने हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग अध्यक्ष को हटाने की मांग की तो मुख्यमंत्री सहमत हुए।

इसके बाद उन्होंने उच्चस्तरीय जांच का भी निर्देश दिया।शिक्षामंत्री रामविलास शर्मा ने बताया कि मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी से जांच कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि दस अप्रैल को हुई परीक्षा का प्रश्नपत्र तैयार करने वाले मुख्य परीक्षक क पहले ही प्रतिबंधित कर दिया गया है। बता दें कि दस अप्रैल को हुई परीक्षा के प्रश्नपत्र में 75 वां सवाल विवादित रहा। इस प्रश्न में पूछा गया था-हरियाणा मे क्या अपशकुन नहीं माना जाता है? इसके चार विकल्प दिए गए थे, जिसमें दो विकल्पों पर विवाद खड़ा हुआ। तीसरे विकल्प के रूप में काले ब्राह्मण से मिलना और चौथे विकल्प के रूप में ब्राह्मण कन्या को देखना था।इस प्रश्न का सही उत्तर ब्राह्मण कन्या को देखना बताया गया था। जिसके बाद मामला तूल पकड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App