ताज़ा खबर
 

हरियाणा नगर निगम चुनाव: मेयर पद के 25 उम्मीदवारों को नोटा से भी कम वोट मिले, पानीपत में सबसे ज्यादा चला नोटा

हरियाणा नगर निगम चुनावों में 25 उम्मीदवार ऐसे रहे जो नोटा से भी ज्यादा वोट हासिल नहीं कर पाए हैं। मेयर पद के लिए कुल 59 उम्मीदवार मैदान में थे।

प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

हरियाणा नगर निगम चुनावों का परिणाम कल आ चुका है। इन चुनावों में भाजपा ने शानदार जीत दर्ज करते हुए पांचों सीटों पर कब्जा जमाया है। इन चुनावों में खास बात ये रही कि कुल 59 उम्मीदवारों में से 25 उम्मीदवार ऐसे रहे जो नोटा से भी ज्यादा वोट हासिल नहीं कर पाए हैं। पानीपत में नोटा पर सबसे ज्यादा 3008 वोट डाले गए हैं।

हरियाणा के पांच नगर निगमों (पानीपत, यमुनानगर, करनाल, हिसार और रोहतक) और दो नगर पालिकाओं के नतीजों के लिए कल मतगणना पूरी हो गई। नगर निगम चुनावों में इन सभी पर भाजपा को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। चुनावो में 60 से 65 प्रतिशत तक वोटिंग हुई। लेकिन कई उम्मीदवार ऐसे भी रहे जो नोटा से भी पीछे रह गए।

बात अगर करनाल की करें कि तो यहां नोटा पर 1032 वोट डाले गए और यहां चुनाव लड़ रहे 8 प्रत्याशियों में 3 तो नोटा से भी पीछे रह गए। पानीपत में सबसे ज्यादा 3008 वोट नोटा पर पड़े और यहां कुल 5 प्रत्याशियों में 1 को नोटा से कम वोट मिले। इसी तरह यमुनानगर में नोटा पर 1746 वोट पड़े और यहां 12 प्रत्याशियों में से 5 नोटा से पीछे रहे। हिसार में सबसे कम 701 वोट नोटा पर डाले गए। यहां चुनाव लड़ रहे 22 प्रत्याशियों में से 13 को नोटा से कम भी वोट मिले। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री के गढ़ में भी नोटा पर 1062 वोट पड़े यहां 12 में से 5 प्रत्याशियों को नोटा से कम वोट मिले।

हरियाणा निकाय चुनाव में जीत मिलने के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह पार्टी की मेहनत और राज्य सरकार की नीतियों की जीत है। खासतौर से पानीपत में हमारी जीत बहुत बड़े अंतर से हुई है। बता दें कि इन चुनावों में बीजेपी चुनाव चिह्न पर चुनाव लड़ रही थी। विपक्ष के तौर पर आईएनएलडी और बीएसपी ने अपने उम्मीदवार उतारे थे। कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी चुनाव चिह्न पर नहीं लड़ रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App