ताज़ा खबर
 

हरियाणा: किसान आंदोलन में शामिल किसान की मौत के बाद चूहों ने लाश को कुतरा, जांच के आदेश जारी

हरियाणा के सोनीपत जिले के एक अस्पताल के मुर्दाघर में एक 72 वर्षीय किसान का शव कथित तौर पर चूहों द्वारा कुतर दिया गया।

dead body genericतस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (Pixabay.com)

हरियाणा के सोनीपत जिले के एक अस्पताल के मुर्दाघर में एक 72 वर्षीय किसान का शव कथित तौर पर चूहों द्वारा कुतर दिया गया। मामले में अस्पताल प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं।  किसान तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन में भी शामिल था। घटना के बारे में गुरुवार सुबह तब चला जब राजेंद्र (मृतक) के परिवार को उनके चेहरे और पैर पर चोट के निशान दिखे। मृतक सोनीपत के बैय्यानपुर गांव का रहने वाला था। उसकी दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई। पिछले कुछ दिनों से, हालांकि, वह रासोई गाँव के पास ही रह रहा था। किसान का शव बुधवार रात को मोर्चरी में रख दिया गया था।

मृतक का बुधवार को आंदोलन स्थल के पास एक गांव में निधन हो गया था। उनकी मौत के कारणों का पता लगाने के लिए गुरुवार को पोस्टमार्टम किया गया था। पीटीआई की एक रिपोर्ट में आज कहा गया कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा था। हालांकि, जब शव को फ्रीजर से बाहर निकाला गया, तो उसके चेहरे और उसके पैर के हिस्सों को चूहों द्वारा कुतरा पाया गया।

बता दें कि बुधवार रात राजेंद्र अचानक बीमार पड़ गए थे। सोनीपत के सिविल अस्पताल में उन्हें तुरंत लाया गया, जहां आने पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। किसान के बेटे प्रदीप सरोहा ने कहा,”हमने शरीर पर खून बहते देखा। हमें उस पर गहरी चोटें मिलीं, बहुत खून बह रहा था। इसके कारण गाँव के लोगों और खाप ने विरोध किया।”

हंगामे के बाद कि अगले दिन अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारी मृतक के रिश्तेदारों और दोस्तों को शांत करने के लिए घटनास्थल पर पहुंचे। सोनीपत के प्रिंसिपल मेडिकल ऑफिसर जय भगवान ने कहा कि तीन डॉक्टरों की एक टीम जांच के लिए गठित की गई है। ये टीम मामले में पूछताछ करेगी। जय भगवान ने कहा, “वे देखेंगे कि इस घटना में किसने लापरवाही बरती है।” टीम एक दिन के भीतर रिपोर्ट सौंपेगी।

जय भगवान ने कहा, “हम इसकी रिपोर्ट पर कार्रवाई करेंगे। हम उन सभी अधिकारियों के बयान दर्ज करेंगे जो समय पर ड्यूटी पर थे। इसके आधार पर हम जिम्मेदारी तय करेंगे।”

कांग्रेस ने हरियाणा की सत्तारूढ़ भाजपा सरकार पर इस घटना पर हमला करते हुए कहा कि “पिछले 73 वर्षों में ऐसी दर्दनाक स्थिति नहीं देखी गई है”। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इस घटना को हैरान कर देने वाला बताया।

एक ट्वीट में, रणदीप सुरजेवाला ने लिखा, किसान के शरीर को चूहों ने कुतर दिया और भाजपा सरकार मूक दर्शक के रूप में बस देखती रही।

Next Stories
1 7th Pay Commission बंगाल के सभी कर्मचारियों को मिलेगा, घोषणा पत्र में भी रखेंगे मुद्दा- चुनाव से पहले अमित शाह का ऐलान
2 टूलकिट केस: दिशा रवि को नहीं मिली राहत, अदालत ने न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाई
3 कोरोनाः Coronil को WHO की योजना के तहत Ayush Ministry से मिला प्रमाण-पत्र- बोली रामदेव की Patanjali
ये पढ़ा क्या?
X