ताज़ा खबर
 

गुजरात: सोमनाथ महादेव मंदिर के बाहर लगाया बोर्ड- ‘हरिजनों का आना मना है’, गांव में तनाव

ग्रामीणों की शिकायत के बाद पुलिस और प्रशासन के लोग मौके पर पहुंचे। आणंद के जिला कलेक्टर दिलीप कुमार राणा ने कहा, 'किसी ने बोर्ड लगाया था और फिर हटा दिया, अब गांव वालों को कोई शिकायत नहीं है।'

Author आणंद | Published on: August 21, 2019 5:24 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (एक्सप्रेस फाइल)

गुजरात के आणंद जिले में सोमवार (19 अगस्त) से ही सुरक्षा व्यवस्था बेहद मजबूत कर दी गई है। दरअसल यहां सवर्ण जातियों के कुछ लड़कों ने कथित तौर पर एक मंदिर के बाहर बोर्ड लगाकर अनुसूचित जातियों के लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक अंक्लव तालुका के अमरोल गांव में स्थित सोमनाथ महादेव मंदिर के बाहर लगे इस बोर्ड पर लिखा था, ‘हरिजन (अनुसूचित जाति) के लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं है।’

सवाल उठा तो आरोपी बोले- कुछ गलत नहीं कियाः यह घटना वाल्मीकि समुदाय के कुछ लोगों द्वारा उजागर की गई। रिपोर्ट के मुताबिक चंदू हरिजन ने कहा, ‘मेरी बेटी हर सोमवार प्रार्थना करने के लिए महादेव मंदिर जाती है। पिछले दिनों वह बोर्ड पढ़कर सुबह 10 बजे के लगभग वापस लौट आई। जब समुदाय के अन्य लोगों के साथ मंदिर गए तो वहां एक साइनबोर्ड लगा हुआ देखा। हमें बाद में पता चला कि यह बोर्ड दरबार समुदाय के लोगों ने लगाया है। जब हमने उनसे सवाल किया तो उन्होंने कहा कि इसमें कुछ गलत नहीं है।’

सरपंच बोले- नोटिस की जानकारी नहींः सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रिकाबेन सोलंकी ने कहा, ‘हमारी टीम मंगलवार (20 अगस्त) को जब उस गांव पहुंची और वहां के लोगों से बात की उन्होंने बताया कि यह घटना सोमवार दोपहर की है। गांव के सरपंच और मंदिर के ट्रस्टी का कहना है कि उन्हें ऐसे नोटिस की जानकारी नहीं है।’ ग्रामीणों की शिकायत के बाद पुलिस और प्रशासन के लोग मौके पर पहुंचे। आणंद के जिला कलेक्टर दिलीप कुमार राणा ने कहा, ‘किसी ने बोर्ड लगाया था और फिर हटा दिया, अब गांव वालों को कोई शिकायत नहीं है।’

National Hindi News, 21 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

Bihar News Today, 21 August 2019: बिहार से जुड़ीं सभी खास खबरों के लिए क्लिक करें

युवकों ने मांगी माफीः पुलिस ने अब तक किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। आणंद डीएसपी (एससी-एसटी सेल) ने कहा, ‘हमने वहां पुलिस बल तैनात किया है लेकिन अब तक कोई अप्रिय घटना सामने नहीं आई। गांव में हर कोई जानता है कि यह सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने के लिए कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा किया गया काम है, इसलिए अब तक किसी ने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है।’ चंदू का कहना है कि घटना वाले दिन शाम को कुछ युवक हमारे घर आए और अपनी हरकत के लिए माफी मांगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दिल्ली: किरारी में घरों के अंदर घुसा बारिश का पानी, 2 ब्लॉक में रहने वाले कर रहे नाव का इस्तेमाल
2 योगी के मंत्री ने नए Tourism Projects के लिए मांगे 430 करोड़ रुपए, मोदी के मंत्री बोले- पहले अटके काम पूरे करें