Harendra Pradhan speaks about killing of deceased landmaker Moti Goyal - हरेंद्र प्रधान ने कबूली मोती गोयल की हत्या की बात, बताया- 10 लाख देकर खुद शूटरों को बाइक पर भेजा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हरेंद्र प्रधान ने कबूली मोती गोयल की हत्या की बात, बताया- 10 लाख देकर खुद शूटरों को बाइक पर भेजा

मोती गोयल की हत्या के पीछे किसी और का हाथ होने के सवाल पर हरेंद्र ने कहा कि हत्या उसने ही कराई है। 25 अप्रैल को थाना सेक्टर-49 पुलिस के हाथ चढ़े शूटर अमित और राहुल को उसने दस लाख रुपए की सुपारी दी थी।

प्रतीकात्मक तस्वीर

चर्चित भूमाफिया मोती गोयल की हत्या के आरोप में गिरफ्तार हरेंद्र प्रधान ने हत्या पीछे किसी और की साजिश या हाथ होने से इनकार किया है। उसने खुद मोती गोयल की हत्या पेशेवर शूटरों से कराने की बात कबूली है। नोएडा पुलिस के मुताबिक, हरेंद्र दिल्ली पुलिस की पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है। पुलिस बुधवार को उसकी हिरासत के लिए अर्जी दायर करेगी। मोती गोयल की हत्या करने वाले दोनों पेशेवर शूटरों को मोटरसाइकिल हरेंद्र प्रधान ने ही मुहैया कराई थी। मोटरसाइकिल अभी तक बरामद नहीं हुई है। ग्रेटर नोएडा के कनारसी गांव के हरेंद्र नागर उर्फ हरेंद्र प्रधान को दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने शनिवार को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया था।

मुठभेड़ महरौली-बदरपुर रोड पर प्रह्वादपुर इलाके के पास हुई थी, जहां पुलिस पिकेट ने हरेंद्र प्रधान की सफेद रंग की स्विफ्ट कार को ओवरटेक कर रोक लिया था। पुलिस की ओर से समर्पण के लिए कहने के बाद भी हरेंद्र ने कार्बाइन से गोली चला दी, जिसके बाद पुलिस ने जवाबी कार्रवाई कर उसे गिरफ्तार कर लिया। थाना सेक्टर-49 से पांच पुलिसकर्मियों का एक दल रविवार दोपहर करीब 12 बजे दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के ऑफिस पहुंचा था और वहीं हरेंद्र प्रधान से करीब तीन घंटे तक पूछताछ की थी।

इस दौरान हरेंद्र ज्यादातर सवालों का जवाब देने से बचता रहा। मोती गोयल की हत्या के पीछे किसी और का हाथ होने के सवाल पर हरेंद्र ने कहा कि हत्या उसने ही कराई है। 25 अप्रैल को थाना सेक्टर-49 पुलिस के हाथ चढ़े शूटर अमित और राहुल को उसने दस लाख रुपए की सुपारी दी थी। मामले की जांच कर रही नोएडा पुलिस को चार और लोगों के हत्या में शामिल होने का संदेह है। इनमें दो ग्रेटर नोएडा और दो दिल्ली के गाजीपुर के रहने वाले बताए गए हैं। मोती गोयल का इन चारों से डीएससी रोड स्थित बरौला गांव की बेशकीमती जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। थाना सेक्टर-49 के एसएचओ पंकज पंत ने बताया कि दिल्ली के स्पेशल सेल ने हरेंद्र को तीन दिन की हिरासत में लिया है। मंगलवार को हिरासत की अवधि खत्म हो जाएगी और बुधवार को नोएडा पुलिस दिल्ली की साकेत अदालत में हरेंद्र की हिरासत के लिए अर्जी देगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App