scorecardresearch

सतयुग से मौजूद है शिवलिंग, औरंगजेब ने तुड़वाया था, स्थानीय मुसलमानों ने बना दिया मस्जिद- मंदिर पक्ष के वकील का दावा

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के बाद हिंदू पक्ष के वकीलों ने दावा किया कि वहां शिवलिंग मिला है। जिसके बाद कोर्ट ने शिवलिंग के आसपास जाने पर रोक लगा दी है। साथ ही यहां वजू पर भी पाबंदी लगा दी गई है। ज्ञानवापी में अब सिर्फ 20 लोगों को नमाज पढ़ने की बात कही गई है।

Gyanvapi| Kashi| uttar pradesh|
ज्ञानवापी मस्जिद (फोटो सोर्स: ANI)

वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे का काम पूरा हो गया है। सर्वे के बाद हिंदू पक्ष की तरफ से दावा किया गया कि मस्जिद परिसर के अंदर शिवलिंग मिला है, जबकि मुस्लिम पक्ष का कहना है कि वो शिवलिंग नहीं फव्वारा है। वाराणसी कोर्ट ने वजूखाना को सील करने का आदेश दिया है। वहीं, हाईकोर्ट में मंदिर पक्ष के वकील विजय शंकर रस्तोगी का कहना है कि ज्ञानवापी परिसर में सर्वेक्षण के दौरान मिले विशाल शिवलिंग और मंदिर के अवशेषों का दावा सही है। ये शिवलिंग सतयुग से मौजूद है।

ज्ञानवापी मस्जिद मामले में मंगलवार को वाराणसी कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट दोनों में सुनवाई हुई। सर्वे टीम को रिपोर्ट जमा करने के लिए दो दिन का समय दिया गया है। वहीं, हाईकोर्ट में मंदिर पक्ष का केस लड़ने वाले वकील विजय शंकर रस्तोगी ने कहा कि स्वयंभू ज्योतिर्लिंग मंदिर नया नहीं है वो सतयुग से वहां मौजूद है। उन्होंने कहा कि 1669 में इस मंदिर को तोड़ा गया, 1669 में बादशाह औरंगजेब का जो फरमान है उसमें कहीं जिक्र नहीं है कि वहां मस्जिद बनवाया जाए।

विजय शंकर रस्तोगी ने कहा कि ये ढांचा स्थानीय मुसलमानों ने तैयार कराया है, ये बादशाह के फरमान से नहीं है। उन्होंने कहा कि जो भी देवता, उनका विग्रह और शिवलिंग वहां मौजूद है उसे छिपाया गया है। वकील ने कहा कि टूटे हुए मंदिर के अवशेष परिसर के पश्चिमी भाग में पड़े हुए हैं, जिसे साफ देखा जा सकता है।

विजय शंकर रस्तोगी ने कहा कि अगर कोई उसे फव्वारा कहता है तो वो मुसलमान नहीं उग्रवादी है। दूसरे पक्ष की तरफ से सर्वे रोकने की मांग पर उन्होंने कहा कि मुस्लिम पक्ष कहीं भी जाए उनका दावा गलत है कि वर्शिप एक्ट का उल्लंघन हुआ है।

कमिश्नर अजय मिश्रा को हटाया गया: वहीं, दूसरी ओर ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे करने वाले कमिश्नर अजय मिश्रा को हटा दिया गया है। उनके सहयोगी पर सर्वे की जानकारी लीक करने के आरोप लग रहे थे। उनकी जगह कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह के निर्देशन में सर्वे पूरा होगा। इस मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर सर्वे के दौरान शिवलिंग मिला है तो उसकी सुरक्षा की जाए, लेकिन इससे नमाजियों को कोई परेशानी न हो इसका भी ध्यान रखा जाए।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.