गुरुग्रामः नमाज से पहले सेक्टर 12 ए की साइट पर हिंदुओं के संगठन ने किया कब्जा, बोले- बना रहे वॉलीबॉल कोर्ट

गुरुग्राम में इस शुक्रवार भी सेक्टर 12 ए की साइट पर नमाज नहीं पढ़ा गया। सुबह से ही हिन्दू संगठन से संबंध रखने वाले लोग इस जगह पर मौजूद थे।

open namaz, gurugram namaz issue
गुरुग्राम में जारी है खुले में नमाज पढ़ने पर विवाद (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

हरियाणा के गुरुग्राम में नमाज की साइट को लेकर रोज विवाद बढ़ता ही जा रहा है। खुले में नमाज के विरोध में पिछले कई महीने से दो समुदायों के बीच विवाद जारी है। प्रशासन इसे सुलझाने की कोशिशों में लगा है, लेकिन उसे अभी तक सफलता हाथ नहीं लगी है।

गुरुग्राम में खुले स्थानों पर नमाज का विरोध शुक्रवार को भी देखने को मिला। कथित तौर पर हिंदू समूहों से जुड़े सदस्यों ने मुसलमानों को प्रार्थना करने से रोकने के लिए सेक्टर 12 ए में एक साइट पर सुबह से कब्जा कर लिया। साइट पर लोगों ने दावा किया कि वो लोग यहां वॉलीबॉल कोर्ट बना रहे हैं जहां बच्चे खेलेंगे।

एनडीटीवी के अनुसार शुक्रवार सुबह से ही एक संगठन के लोग यहां बैठे थे। पहले यहां पूजा के लिए गोबर के उपले लगाए गये थे, जिसे इनलोगों ने यहां से हटाने नहीं दिया। मैदान पर बैठे लोगों में से एक चाहर ने कहा- हम यहां चुपचाप बैठे हैं… लेकिन नमाज नहीं होने देंगे। हम यहां खेलने की योजना बना रहे हैं। जबकि एक अन्य वीर यादव ने कहा- “हम एक नेट लगाएंगे… यहां वॉलीबॉल कोर्ट का निर्माण करेंगे और बच्चे खेलेंगे। नमाज नहीं होने देंगे, चाहे कुछ भी हो जाए।”

पिछले कई हफ्तों से इस और अन्य साइटों पर विरोध और धमकी के प्रदर्शन का सामना करने वाले मुस्लिम संगठनों ने कहा है कि वे आज इस साइट पर नमाज अदा नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, “हमने सभी से कहा है कि जब तक हमारे हिंदू भाइयों के साथ समझौता नहीं हो जाता, हम यहां नमाज नहीं पढ़ेंगे… डीसी साहब ने भी हमें एक सप्ताह का समय दिया है।”

गुरुग्राम में 2018 में भी इसी तरह की झड़पों के बाद हिंदू और मुसलमान समुदाय के बीच 37 जगहों पर नमाज पढ़ने का समझौता हुआ था। उसमें सेक्टर 12 ए वाली जगह भी शामिल थी। इनमें से कुछ दिन पहले ही विवाद के कारण प्रशासन ने आठ जगहों पर नमाज पढ़ने से लोगों को रोक दिया है। प्रदर्शनकारियों का दावा है कि रोहिंग्या शरणार्थी इलाके में नमाज के बहाने अपराध करते हैं।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट