ताज़ा खबर
 

आवारा कु्त्तों को पीटने के लिए कारोबारी ने नौकरी पर रख लिया आदमी, भतीजे को परेशान करते थे कुत्ते

तरुण ने सोसाइटी में घुसे कुत्तों को पीटने और उन्हें भगाने के लिए रखे गए शख्स को नौ हजार रुपए दिए थे। इस मामले में आरोपी शख्स को पहले गिरफ्तार किया गया था, बाद में कोर्ट में पेशी हुई और फिर छोड़ा गया।

Author Published on: April 30, 2019 6:05 PM
आवारा कुत्तों को पीटने के लिए नौकरी पर रखा आदमी

गुरुग्राम के सेक्टर 50 स्थित उप्पल्स साउथ एंड सोसाइटी के रहने वाले एक शख्स ने आवारा कुत्तों को पीटने के लिए एक शख्स को नौकरी पर रख लिया। 32 साल के इस शख्स की पहचान तरुण कुमार के रूप में हुई है। मामला सामने आने के बाद तरुण को पशुओं के प्रति क्रूरता रोकथाम अधिनियम 1960 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। रिपोर्ट के मुताबिक तरुण कुत्तों द्वारा कई बार उनके भतीजे का पीछा करने से परेशान था। तरुण का कहना है कि हाल ही में कुत्तों ने उनके पड़ोसियों को भी काट लिया था। प्राप्त जानकारी के मुताबिक तरुण का सदर बाजार में बिजनेस है। हालांकि गिरफ्तारी के बाद उन्हें उसी दिन कोर्ट में पेश किया गया और फिर रिहा कर दिया गया।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक तरुण ने सोसाइटी में घुसे कुत्तों को पीटने और उन्हें भगाने के लिए रखे गए शख्स को नौ हजार रुपए दिए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में मुख्य आरोपी तरुण कुमार को चार अन्य आरोपियों ने पहचाना था। इन चारों को 17 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था और सभी को दो दिन बाद जमानत दे दी गई थी।

National Hindi News, 30 April 2019 LIVE Updates: दिनभर की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

सोसाइटी के रहने वाले कुछ लोग जो इन कुत्तों के खाने-पीने का ध्यान रखते थे, उनका कहना है कि जो पशु सोसाइटी में थे उन्हें टीके लगवा दिए गए थे। पुलिस को संदेह है कि आरोपियों ने आवारा कुत्तों को दक्षिणी पेरिफेरल रोड पर छोड़ दिया। इस महीने की शुरुआत में चार लोगों के एक समूह ने कुत्तों को पीटा और फिर उन्हें दूर ले गए। यह पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी में कैद हो गया।

 

पशु अधिकारों के लिए काम करने वाले लोगों ने मांग की है कि इस मामले में सोसाइटी के रेसिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए। वहीं एसोसिएशन के अध्यक्ष रमेश भारद्वाज ने कहा, ‘मुझे सोसाइटी के सदस्य की गिरफ्तारी की जानकारी नहीं है। मैं इस मामले की जानकारी लूंगा। मुझे न तो एसोसिशएन को कोई नोटिस मिलने की जानकारी है और न ही मैं इस घटनाक्रम में शामिल था।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अजनबियों के साथ सोने के लिए मजबूर करता है पति, सोशल मीडिया पर बनाया नेटवर्क, महिला ने लगाया आरोप
2 10 साल के बच्चे ने दान किए 30 हजार रुपए, जेब खर्च जोड़ जुटाई थी रकम, तीन पीढ़ी से लोगों की मदद कर रहा यह परिवार
3 गुड़गांव: स्कूल की फैशन पार्टी में महिला टीचर ने लिया था हिस्सा, क्लब पहुंचा पति और घुटने में मार दी गोली