Gurgaon people formed a Sarva Khap Panchayat and called for a boycott of those who object to the offering of namaz-गुरुग्राम के लोगों ने बनाई 'खाप पंचायत', खुले में नमाज पढ़ने वालों के विरोधियों का बहिष्कार करेगी - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गुरुग्राम के लोगों ने बनाई ‘खाप पंचायत’, खुले में नमाज पढ़ने वालों के विरोधियों का बहिष्कार करेगी

गुरुग्राम के लोगों ने सर्व खाप पंचायत का गठन किया है।यह पंचायत उन लोगों का बहिष्कार करेगी, जो खुले में नमाज पढ़ने का विरोध करेंगे।

Author नई दिल्ली | May 16, 2018 2:03 PM
गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने की घटना पर सीएम खट्टर ने प्रतिक्रिया दी थी।

गुरुग्राम के लोगों ने सर्व खाप पंचायत का गठन किया है।यह पंचायत उन लोगों का बहिष्कार करेगी, जो खुले में नमाज पढ़ने का विरोध करेंगे।यह पंचायत उन हिंदू संगठनों के विरोध में गठित हुई है, जो हाल में मुस्लिमों के खुले में नमाज पढ़ने पर बाधा पहुंचाते आए हैं।खाप पंचायत के सदस्यों ने उन लोगों के बहिष्कार की अपील की है, जो शहर में सांप्रदायिक हिंसा भड़काने की कोशिश में लगे हैं। 27 मई को झरसा गांव में एक महापंचायत भी बुलाई गई है, जिसमें ऐसे लोगों की शिनाख्त होगी, जो शहर में शांति-व्यवस्था में बाधा उत्पन्न कर रहे हैं।

सर्व खाप पंचायत के अध्यक्ष महेंद्र सिंह थाकरान ने कहा-हम महापंचायत में सांप्रदायिक हिंसा भड़काने वालों की पहचान कर उनका सामाजिक बहिष्कार करेंगे।उन्होंने कहा कि लोगों को खुले में नमाज पढ़ने से नहीं रोका जा सकता।लोगों के पास इसका विरोध करने के और रास्ते हैं, वह पुलिस के पास शिकायत दर्ज करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हिंदू संगठनों के लोग जबरन लोगों को नमाज पढ़ने से रोक रहे हैं और नारे लगाते हैं, यह गलत है।

बता दें कि 20 अप्रैल से गुरुग्राम के विभिन्न स्थानों पर मुस्लिमों को सार्वजनिक स्थलों पर नमाज पढ़ने से रोकने की घटनाएं सामने आईं। पुलिस ने 20 अप्रैल को छह लोगों को नमाज पढ़ने में बाधा डालने के जुर्म में गिरफ्तार किया।आरोप है कि हिंदू संगठनों के लोग मुस्लिमों को खुले में नमाज पढ़ता देख परेशान करते हैं और जयश्री के नारे लगाते हैं। शुक्रवार को इफको चौक, उद्योग विहार, लेजरवैली पार्क, माल माइल और एमजी रोड पर नमाज के दौराना बाधा उत्पन्न करने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App