ताज़ा खबर
 

फिल्म का टाइटल ‘गुमनानी’ रखने पर विवादों में सुभाष चंद्र बोस की मूवी, परिवार ने निर्देशक पर लगाए ये आरोप

नेताजी की भतीजी चित्रा घोष, उनके भतीजे द्वारका बोस और बोस परिवार के 30 अन्य सदस्यों द्वारा हस्ताक्षरित एक बयान में सोमवार को कहा गया है, ‘‘पिछले एक साल से, जब से श्रीजीत मुखर्जी ने फिल्म ‘गुमनामी बाबा’ की घोषणा की है, उन्होंने कहा था कि यह फिल्म चन्द्रचूड़Þ घोष और अनुज धर की पुस्तक ‘कॉनन्ड्रम’ पर आधारित है।

Author कोलकाता | Updated: September 10, 2019 5:09 PM
फिल्म को अगस्त के आखिरी हफ्ते में सीबीएफसी से मंजूरी मिली थी। यह फिल्म 2 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर आधारित फिल्म ‘गुमनामी’ को लेकर एक नया विवाद छिड़ गया है। बोस परिवार के 32 सदस्यों ने निर्देशक श्रीजीत मुखर्जी पर आरोप लगाया है कि फिल्म निर्माता ने सेंसर बोर्ड की मंजूरी पाने के लिए फिल्म का नाम ‘गुमनामी बाबा’ से बदलकर ‘गुमनामी’ रख दिया है। बोस के लापता होने की घटना पर बनी फिल्म पहले से ही विवादों में है। निर्देशक ने बोस द्वारा स्थापित ‘|ल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक’ के कार्यालय में रविवार को फिल्म के ट्रेलर की स्क्रीनिंग की थी। निर्देशक ने स्वतंत्रता सेनानी के कुछ वंशजों द्वारा लगाए गए आरोपों को असत्य करार दिया है।

फिल्म को अगस्त के आखिरी हफ्ते में सीबीएफसी से मंजूरी मिली थी। यह फिल्म 2 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। नेताजी की भतीजी चित्रा घोष, उनके भतीजे द्वारका बोस और बोस परिवार के 30 अन्य सदस्यों द्वारा हस्ताक्षरित एक बयान में सोमवार को कहा गया है, ‘‘पिछले एक साल से, जब से श्रीजीत मुखर्जी ने फिल्म ‘गुमनामी बाबा’ की घोषणा की है, उन्होंने कहा था कि यह फिल्म चन्द्रचूड़ घोष और अनुज धर की पुस्तक ‘कॉनन्ड्रम’ पर आधारित है। अब उन्होंने (श्रीजीत मुखर्जी ने) सेंसर बोर्ड से मंजूरी लेने के लिए अचानक अपना रुख बदल लिया है और कहते हैं कि फिल्म न्यायमूर्ति मुखर्जी आयोग की रिपोर्ट पर आधारित है। उन्होंने फिल्म का नाम भी बदल दिया है।’’

आरोप से इनकार करते हुए, मुखर्जी ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘क्या सरासर बकवास और झूठ का एक पुलिंदा है। टीजर पोस्टर सहित सभी घोषणाओं में पहले दिन से ही फिल्म का नाम गुमनामी है। कॉनन्ड्रम नहीं, बल्कि मुखर्जी आयोग की रिपोर्ट को पटकथा का आधार बनाने का निर्णय फिल्म की शूटिंग से काफी पहले लिया गया था, जो इस विवाद से कई महीने पहले की बात है।

मुखर्जी ने रविवार को कहा था कि एआईएफबी के वरिष्ठ नेताओं ने ट्रेलर देखा और वे फिल्म का प्रीमियर देखने के लिए सहमत हुए हैं। फिल्मकार ने कहा, ‘‘एआईएफबी का 20 सदस्यीय प्रतिनिधि यह तय करेगा कि ‘गुमनामी’ ने नेताजी के प्रशंसकों और लोगों की भावनाओं को आहत किया है या नहीं।’’ एआईएफबी के वरिष्ठ नेता नरेन डे, हरिपद विश्वास, देवव्रत विश्वास, नरेन चटर्जी रविवार को राज्य पार्टी मुख्यालय में स्क्रीनिंग समारोह में मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 New Traffic Rules: गुजरात की BJP सरकार ने बदल दिया कानून, घटा दिए चालान के रेट; जानें नियम तोड़ने पर अब कितना लगेगा जुर्माना
2 Delhi IGI एयरपोर्ट पर दिव्यांग महिला से बदसुलूकी, सुरक्षाकर्मी बोली- व्हीलचेयर से खड़ी हो जांच कराओ, ड्रामा नहीं
3 राजस्थान: दोस्तों संग जा रही किशोरी से शराबियों ने पहले किया गैंगरेप, फिर पीटा, निर्वस्त्र भागकर पीड़िता ने बचाई जान