ताज़ा खबर
 

Gujarat: पबजी की लत के चलते पत्नी ने दी तलाक की अर्जी, गेमिंग पार्टनर के साथ चाहती है रहना

अहमदाबाद की महिला का कहना है कि उनका पति के साथ किसी तरह का विवाद नहीं है। वह केवल पबजी गेमिंग पार्टनर के साथ रहना चाहती है।

प्रतीकात्मक चित्र फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुजरात के अहमदाबाद से ऑनलाइन गेम PUBG पबजी को लेकर एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। यहां एक बच्चे की मां ने पबजी गेमिंग पार्टनर के लिए पति से तलाक लेने की ठान ली। महिला ने तलाक के लिए वुमन हेल्पलाइन (अभयम 181) की सहायता मांगी है। बताया जा रहा कि भारत में पबजी गेम कई लोगों की मौत का कारण बन चुका है लेकिन अब यह लोगों के बेडरूम तक पहुंचकर घर तोड़ने का कारण भी बनता हुआ नजर आ रहा है।

National Hindi News, 18 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

क्या है मामला: गुजरात में वुमन हेल्पलाइन अभयम 181 की एक अधिकारी ने बताया कि उनके पास मदद के लिए एक महिला की कॉल आई थी। कॉल (याचिका) के जवाब में अभयम के एक परामर्श दल ने महिला के घर का दौरा किया और इस मुद्दे के बारे में परिवार से बात की। बात करने के बाद टीम को पता चला कि महिला PUBG खेलते हुए अपने मोबाइल फोन पर ज्यादा समय बिता रही थी, जिससे उसके और परिवार के बीच मतभेद पैदा हो गए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 19 वर्षीय महिला का तलाक की अर्जी देने के पीछे घरेलू विवाद नहीं है, बल्कि पबजी से उपजा विवाद है।

अभयम का बयान: अभयम 181 हेल्पलाइन के प्रोजेक्ट हेड नरेंद्रसिंह गोहिल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि औसतन हेल्पलाइन को एक दिन में लगभग 550 कॉल आते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरीके का यह पहला मामला था। गोहिल ने कहा कि आमतौर पर माताएं PUBG के आदी बच्चों की शिकायत करने के लिए फोन करती हैं। शिकायतकर्ता महिला से मुलाकात करने वाली अभयम की काउंसलर सोनल सागरथिया ने उसे अपने फैसले पर फिर से विचार करने की सलाह दी है। इसके अलावा उसे अहमदाबाद में एक पुनर्वास केंद्र में रहने की बात भी कही गई थी। हालांकि, उसने इसके लिए मना कर दिया क्योंकि वहां उसे मोबाइल फोन के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दी थी।

पबजी गेम: PUBG का फुल फॉर्म ‘Player Unknows Bettlegrounds’ है। यह दक्षिण कोरियाई मूल का एक ऑनलाइन गेम है। भारत में इसे (PUBG ) बैन करने से जुड़ी मांग पर कई शहरों में कानूनी कदम उठाए गए हैं। इस गेम को बैन करने के लिए सरकार कार्रवाई भी कर रही हैं। (शशांक राज)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App