ताज़ा खबर
 

पुलिस की शरण में पहुंचा जज, बोला- कोर्ट के स्टैनो से हैं पत्नी के अवैध संबंध

आरोप है कि एक प्रेमी ने मोबाइल ऐप्लीकेशन के बारे में उनकी पत्नी को बताने का बहाना बनाया था, तभी से पत्नी और उसका चक्कर चल रहा है। वे दोनों इसके बाद काफी करीब आ गए। उनके बीच आज भी नाजायज संबंध हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

गुजरात के वडोदरा शहर में एक सिविल जज ने पत्नी के गैर मर्दों के साथ नाजायज संबंधों के आरोपों को लेकर पुलिस की शरण ली है। पीड़ित जज ने अपनी पत्नी को व्याभिचारी बताया है। उनका कहना है कि पत्नी का दो अन्य मर्दों के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा है। एक प्रेमी कोर्ट में स्टैनोग्राफर है, जबकि दूसरा वाला पत्नी के स्कूल के वक्त का है। पीड़ित का आरोप है कि पत्नी इन दोनों के साथ शारीरिक संबंध बनाती है। पुलिस ने पीड़ित जज की शिकायत के बाद आरोपी पत्नी सहित छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, सिविल जज का दावा है कि प्रियांक मल्कान नाम के शख्स को उनकी पत्नी स्कूल के दौर से जानती है। दोनों के बीच शारीरिक संबंध में भी हैं, जो बात उनसे छुपा कर रखी गई थी। दूसरे प्रेमी की शिनाख्त श्रीजीत पिल्लई के रूप में हुई है। पीड़ित जज जिस कोर्ट में पहले जाते थे, वहां पर वह स्टेनोग्राफर है।

आरोप है कि पिल्लई ने मोबाइल ऐप्लीकेशन के बारे में उनकी पत्नी को बताने का बहाना बनाया था, तभी से पत्नी और उसका चक्कर चल रहा है। वे दोनों इसके बाद काफी करीब आ गए। उनके बीच आज भी नाजायज संबंध हैं। पीड़ित ने यह भी बताया कि दूसरे प्रेमी के साथ पत्नी ने मोबाइल फोन पर तकरीबन 3500 से ज्यादा बार बात की।

पति के गंभीर आरोपों से पहले पत्नी भी उनके खिलाफ शिकायत दे चुकी है। साल 2017 में उसने जज के खिलाफ दहेज कानून और मारपीट की शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं, पीड़ित जज का कहना है, “पत्नी, उसके प्रेमी और रिश्तेदारों ने मुझे बदनाम करने का प्रयास किया। यही नहीं 25 लाख रुपए ऐंठकर खुदकुशी कर मुझे जिम्मेदार ठहराने और जान से मारने की धमकी भी दी थी।”

मामले की जानकारी पर पुलिस ने आरोपी महिला, उसके पिता, चाचा और दो प्रेमियों सहित कुल छह लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली है। पुलिस का कहना है कि पूछताछ की जा रही है। जो भी दोषी पाया गया, उस पर उचित कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App