ताज़ा खबर
 

गुजरात: नाम के साथ ‘सिंह’ लगाया तो जबरन मूंड दी मूंछ, वीडियो किया वायरल

पीड़ित रणजीत का कहना है, "अगर घटना से जुड़ा वीडियो वायरल होने से बात आगे न बढ़ी होती, तो मैं पुलिस में शिकायत नहीं देता।" राज्य में यह इस तरह की पहली घटना नहीं है, जब मूंछों को लेकर विवाद हुआ हो। गांधी नगर के पास बीते साल एक गांव में दो घटनाओं में मूंछ रखने को लेकर राजपूत समुदाय के लोगों ने दलित समाज के दो लोगों की जमकर पिटाई की थी।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

नाम के साथ सिंह लगाना एक शख्स को बेहद भारी पड़ा। इतना कि जबरन उसकी मूंछें मुंडवा दी गईं। घटना के दौरान वीडियो भी बनाया गया, जिसे बाद में उसकी बदनामी के लिए सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया है, जबकि तीन अन्य आरोपी फरार हैं। यह सनसनीखेज मामला गुजरात के बनासकांठा जिले में पालनपुर तालुका थाना क्षेत्र का है। 27 मई को यहां के माणका गांव निवासी रणजीत सिंह ठाकोर ने घरेलू समारोह के लिए छपे निमंत्रण पत्र में अपने नाम के साथ सिंह उपनाम लिखा दिया था। वह पिछड़ी ठाकोर जाति से नाता रखता है।

पड़ोस के घोढ़ गांव में जब यह निमंत्रण पत्र पहुंचा, तो क्षत्रिय समाज के कुछ लोग इस बात से खफा हो गए। उन्होंने इसके बाद रणजीत को पकड़ा और जबरन उसकी मूंछें मूंड दीं।

पीड़ित रणजीत का कहना है, “अगर घटना से जुड़ा वीडियो वायरल होने से बात आगे न बढ़ी होती, तो मैं पुलिस में शिकायत नहीं देता।” सिंह शब्द का नाम के आगे इस्तेमाल करने पर पास के गांव के मयूर सिंह डाभी, हरपाल सिंह डाभी व दो अन्य लोगों ने उसके साथ जबरदस्ती की और उसकी मूंछें मूंड दीं।

उधर, पुलिस अधिकारी ए.वाई पटेल ने बताया कि पीड़ित की शिकायत मिली थी, जिसके बाद मामला दर्ज कर लिया गया है। एक आरोपी दरबार (राजपूत) समुदाय के मयूर सिंह डाभी को इस मामले में दबोचा गया है, जबकि तीन अन्य को खोजने के लिए लगातार दबिश दी जा रही है।

राज्य में यह इस तरह की पहली घटना नहीं है, जब मूंछों को लेकर विवाद हुआ हो। गांधी नगर के पास बीते साल एक गांव में दो घटनाओं में मूंछ रखने को लेकर राजपूत समुदाय के लोगों ने दलित समाज के दो लोगों की जमकर पिटाई की थी। पहली घटना 25 सितंबर, जबकि दूसरी 29 सिंतबर को हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App