gujrat lion with live bait in una -गुजरात: बछड़े को बांधकर शेर के सामने छोड़ा, वीडियो हुआ वायरल - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गुजरात: बछड़े को बांधकर शेर के सामने छोड़ा, वीडियो हुआ वायरल

जांच अधिकारियों के मुताबिक इस तरह से शेरों से शिकार करवाना यहां एक गैरकानूनी धंधा बन चुका है और इसके लिए मोटी रकम भी वसूली जाती है। दरअसल ऐसा करने वाले लोग ज्यादातर उन लोगों को निशाना बनाते हैं जो लोग सफारी के दौरान शेरों को नहीं देख पाते।

वन विभाग को शक है कि आसपास के किसान इस काम में शामिल हो सकते हैं।

गुजरात के अमहदाबाद से एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में नजर आ रहा है कि एक बछड़े को बांधकर जंगल के राजा शेर के सामने छोड़ दिया गया है। बेबस बंधे बछड़े पर शेर कहर बनकर टूटता है और फिर देखते ही देखते यह बछड़ा शेर का शिकार हो जाता है। ऐसी आशंका है कि यह वीडियो ऊना में बनाया गया है। यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। गंभीर बात यह भी है कि यह वीडियो यहां बने अभ्यारण्य के बाहरी हिस्सों में बनाया गया है। इस वीडियो के सामने आने के बाद गिर में शेरों की सुरक्षा और उनके रखरखाव पर गंभीर सवाल उठने लगे हैं। वायरल वीडियो में कुछ लोग गुजराती भाषा में बात करते सुनाई दे रहे हैं।

इस वीडियो को देखने के बाद वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह इलाका ऊना के राजस्व क्षेत्र में आता है। अधिकारियों का कहना है कि जिस वक्त शेर ने बछड़े का शिकार किया उस वक्त वीडियो बना रहे लोग शेर के काफी पास आ गये थे। अधिकारियों ने यह क्लिप बनाने वालों के खिलाफ जांच तेज कर दी है। जांच टीम को शक है कि आसपास के इलाकों में रहने वाले किसान इस तरह के गैरकानूनी कामों में लिप्त हो सकते हैं।

आपको बता दें कि अप्रैल महीने में वन विभाग ने एक पूर्व वन विभाग के कर्मचारी के बेटे को गिरफ्तार किया था जो पूर्व में ऐसी घटनाओं में शामिल था। वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक जिन सात लोगों को इस मामले में उन लोगों ने पकड़ा है उनके पास से ऐसे 200 वीडियो मिले हैं। हालांकि पकड़े गए कुछ लोगों ने अपने मोबाइल फोन से कई सारे वीडियो हटा भी दिये हैं। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उनके फोन फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे जाएंगे।

जांच अधिकारियों के मुताबिक इस तरह से शेरों से शिकार करवाना यहां एक गैरकानूनी धंधा बन चुका है और इसके लिए मोटी रकम भी वसूली जाती है। दरअसल ऐसा करने वाले लोग ज्यादातर उन लोगों को निशाना बनाते हैं जो लोग सफारी के दौरान शेरों को नहीं देख पाते। यह लोग ऐसे वीडियो क्लिप्स दिखाकर पर्यटकों को शेरों को करीब से दिखाने का लालच देते हैं। लोग इसके लिए 5000 से 10,000 रुपये तक देने के लिए तैयार हो जाते हैं। इतना ही नहीं अगर उन्हें शेर को शिकार करते देखना हैं तो इसके लिए उन्हें दस से पंद्रह हजार तक देने पड़ते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App