Gujrat: Indian Air Force Aircraft Jaguar crashed in Kutch's Mandra Area, Pilot missing - गुजरात: वायुसेना का जगुआर कच्छ में क्रैश, 1 पायलट की मौत - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गुजरात: वायुसेना का जगुआर कच्छ में क्रैश, 1 पायलट की मौत

मंगलवार (पांच जून) को यह दुर्घटना कच्छ के मुंदरा इलाके में हुई। घटना के बाद से विमान के पायलट का अभी तक कुछ अता-पता नहीं है। दुर्घटना का शिकार हुए विमान की पहचान आईएएफ के जगुआर के रूप में हुई है।

दुर्घटना के बाद कच्छ के मुंदरा इलाके में पड़ा विमान का क्षतिग्रस्त हिस्सा। (फोटोः ANI)

गुजरात में मंगलवार को भारतीय वायु सेना (आईएएफ) का एक विमान क्रैश हो गया। यह दुर्घटना आज (पांच जून) सुबह कच्छ के मुंदड़ा इलाके में हुई। घटना में विमान के पायलट की जान चली गई। दुर्घटना का शिकार हुए विमान की पहचान आईएएफ के जगुआर के रूप में हुई है। यह विमान कैसे क्रैश हुआ, इस बारे में अभी तक पता नहीं लगा है। दुर्घटना का कारण मालूम करने के लिए जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, इस विमान ने रूटीन ट्रेनिंग मिशन के तहत जामनगर से उड़ान भरी थी। वायु सेना के वरिष्ठ पायलट संजय चौहान इस विमान में थे, जिनकी दुर्घटना में मौत हुई है। भारतीय वायु सेना में वह एयर कमोडोर पद पर थे। घटना के बाद जगुआर के क्षतिग्रस्त हिस्से और मलबा कच्छ के मुंदरा इलाके में इधर-उधर पड़े मिले।

लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष ओझा ने जांच के आदेश जारी किए हैं। उन्होंने इस बारे में कहा, “विमान सुबह साढ़े दस बजे के आसपास उड़ा था। वह रूटीन पर था।” पायलट की मौत की पुष्टि से पहले उसके लापता होने की खबरें आई थीं।

आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है, जब वायु सेना का कोई विमान या चॉपर दुर्घटना का शिकार हुआ हो। पिछले महीने जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में वायु सेना का चीता हेलीकॉप्टर हेलीपैड पर हादसे का शिकार हुआ था। लड़ाकू चॉपर में दो यात्री व दो चालक दल के लोग थे। अच्छी बात रही थी कि वे चारों ही सही-सलामत बच गए थे।

वहीं, 10 मार्च को रायगढ़ के मुरूड में तटरक्षक का चेतक हेलीकॉप्टर क्रैश हुआ था। हादसे में तब सह-पायलट सहायक कमांडेंट कैप्टन पेनी चौधरी जख्मी हुई थे, जिनका 17 दिनों बाद निधन गो गया था।

जानें जगुआर को: भारतीय वायु सेना में जगुआर खास श्रेणी का जंगी विमान है। दुश्मन की सीमा में भीतर तक घुस कर हमला करने में यह माहिर माना जाता है। वायु सेना इसके जरिए दुश्मन के एयरबेस, कैंपों और जंगी जहाजों पर हमला बोल सकती है और सब कुछ कुछ क्षणों में तबाह करने की क्षमता रखती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App