ताज़ा खबर
 

गुजरात चुनाव: एक ही सीट से कांग्रेस के 3 प्रत्‍याशियों ने भरा पर्चा, पार्टी ने साथ नहीं दिया तो रद्द होगी उम्‍मीदवारी

इन नेताओं को 27 नवंबर, दोपहर तीन बजे से पहले अपनी पार्टी द्वारा राजनीतिक जनादेश दिखाना होगा।

कांग्रेस के तीन प्रत्याशियों ने वडोदरा के सावली निर्वाचन क्षेत्र से नामांकन दाखिल कराया है। पूछने पर इन नेतआों का कहना है कि ये उनकी एकता दिखाने का एक तरीका है। एएनआई की न्यूज के अनुसार इन नेताओं का कहना है कि पार्टी आलाकमान जिस नेता को टिकट देगा बाकी दो नेता कांग्रेस उम्मीदवार को जिताने के लिए जमकर चुनाव प्रचार करेंगे। वहीं सावली एसडीएम रचित राज ने बताया, ‘कांग्रेस के तीन उम्मीदवारों ने सावली विधानसभा क्षेत्र से नामांकन पर्चा भरा है। इन नेताओं को 27 नवंबर, दोपहर तीन बजे से पहले अपनी पार्टी द्वारा राजनीतिक जनादेश दिखाना होगा। अगर वो ऐसा करने में नाकाम रहे तो उनकी उम्मीदवारी रद्द कर दी जाएगी।’

गौरतलब है कि गोधरा से पांच बार विधायक रहे सीके राउलजी ने गुरुवार (23 नवंबर) को गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन किया लेकिन इस बार उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से पर्चा भरा। उनके इस फैसले से स्थानीय मुस्लिम मतदाता भ्रम की स्थिति में हैं। गोधरा के करीब ढाई लाख वोटरों में लगभग 20-25 प्रतिशत मुसलमान हैं। राउलजी पहले भी बीजेपी में रह चुके हैं। 1990 के दशक में वो दो बार बीजेपी के टिकट पर विधायक रह चुके हैं। वहीं पिछले दो बार वो कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुने गए थे। हालांकि वो पहली बार 1990 में जनता दल के टिकट पर एमएलए बने थे। राउलजी शंकर सिंह वाघेला के करीबी माने जाते हैं। बीजेपी ने आखिरी बार गोधरा में साल 2002 में जीत हासिल की थी। इस बार उसे इस सीट को जीतने के लिए रौलजी पर भरोसा है।

गोधरा के सिग्नल फाड़िया के आसपास साल 2002 में साबरमती एक्सप्रेस के डिब्बे में आग लगाने के कई दोषी रहते हैं। यहां के निवासी राउलजी के बीजेपी में जाने से निराश हैं। एक स्थानीय निवासी कहते हैं, “जब राउलजी ने राज्य सभा में अहमद पटेल को अपना एक वोट नहीं दिया तो फिर हजारों मुसलमान उन्हें क्यों वोट दें?” 60 वर्षीय यामीन खान कहते हैं, “मुस्लिम राउलजी को इसलिए वोट देते थे क्योंकि वो कांग्रेस में था। अब वो बीजेपी में हैं तो उन्हें वोट नहीं देंगे।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.