ताज़ा खबर
 

फेसबुक पोस्ट ने गुजरात के कृषि मंत्री बाबूभाई बोखिरिया की उड़ाई नींद, लोग फोन कर पूछ रहे- कपास लगाएं या गेहूं?

विवाद तीन जून को शुरू हुआ जब राजवीर ने फेसबुक पोस्ट किया था और मंत्री और उनके सहायक का पर्सनल नंबर पोस्ट किया था।

एक कार्यक्रम में एक किसान को सम्मानित करते गुजरात के कृषि मंत्री बाबूभाई बोखिरिया। (फोटो-फेसबुक)

गुजरात के कृषि मंत्री बाबूभाई बोखिरिया के मोबाइल पर पिछले एक हफ्ते में इतने फोन आए कि उन्हें परेशान होकर पोरबंदर पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज करानी पड़ी। मंत्री को फोन करने वाले अधिकांश लोग उनसे ये पूछ रहे थे कि उन्हें अपने खेतों में कौन सी फसल लगानी चाहिए? मसलन, कपास, गेहूं या मूंगफली? इससे मंत्री जी बिफर पड़े। उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र पोरबंदर में पुलिस को इसकी शिकायत की। पुलिस को जांच में पता चला कि सोशल मीडिया पर वायरल एक पोस्ट ने मंत्रीजी की नींद उड़ाई थी।

दरअसल, स्थानीय कांग्रेस नेता और आईटी सेल के हेड राजवीर बोपदारा ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी जिसमें उन्होंने कृषि मंत्री का मोबाइल नंबर देते हुए लोगों से कहा था कि किसान कौन सी फसल बोएं, इसके लिए वो सीधे कृषि मंत्री से उनके फोन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। इसके बाद कई लोगों ने सीधे मंत्री को फोन किए थे। एचटी मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस नेता राजवीर ने कहा कि उन्होंने ऐसा कर के कुछ भी गलत नहीं किया है।

राजवीर ने एचटी मीडिया से कहा, “पोस्ट में ऐसा कुछ भी नहीं लिखा गया था जिससे कि उनका अपमान हो या या उनकी मानहानि हो। मैंने सिर्फ उनका फोन नंबर पोस्ट किया और लोगों को उनसे फसल चयन में सलाह लेने को कहा था। आईटी सेल हेड होने के नाते मैं सिर्फ अपनी जिम्मेदारी निभा रहा था।”

यह विवाद तीन जून को शुरू हुआ जब राजवीर ने फेसबुक पोस्ट किया था और मंत्री और उनके सहायक का पर्सनल नंबर पोस्ट किया था। बता दें कि साल भर पहले एक फोन कॉल में तथाकथित रूप से मंत्री को एक किसान से बात करते हुए सुना गया था जिसमें मंत्री किसान से यह कहते हुए पाए गए थे कि आपने मूंगफली क्यों बोया? आपने फसल बोने से पहले मुझसे क्यों नहीं पूछा। मंत्री की मौखिक शिकायत पर पुलिस ने कांग्रेस नेता को फेसबुक पोस्ट डिलीट करने को कहा था लेकिन कोई एफआईआर नहीं होने की वजह से उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सका।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App