scorecardresearch

गुजरात के शिक्षा मंत्री ने लिखी चिट्ठी, बलात्‍कार के दोषी आसाराम की संस्था को दी बधाई

राज्य सरकार में मंत्री द्वारा ऐसे पत्र लिखने पर हंगामा खड़ा हो गया। हालांकि मंत्री भूपेंद्र सिंह को मानना है कि उन्होंने कुछ भी गतल नहीं किया। मंत्री ने पत्रकारों से कहा कि उन्होंने शुभेच्छा भेजकर कोई गलत काम नहीं किया।

गुजरात के शिक्षा मंत्री ने लिखी चिट्ठी, बलात्‍कार के दोषी आसाराम की संस्था को दी बधाई
शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा (फोटो सोर्स : Express File Photo)

गुजरात की रुपाणी सरकार में शिक्षा मंत्री के एक पत्र पर विवाद खड़ा हो गया है। खत के जरिए बलात्कार के मामले में दोषी ठहराए गए आसाराम की संस्था को बधाई दी है। शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने 14 फरवरी को आसाराम की संस्था योग वेदांत सेवा समिति द्वारा मनाए जाने वाले कार्यक्रम मातृ पितृ दिवस की तारीफ की है।

गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने आसाराम की संस्था की तारीफ करते हुए लिखा, ‘आपके द्वारा मनाए जाने वाले मातृ पितृ दिवस से आज की पीढ़ी अपने माता-पिता के प्रति अपनी जवाबदेह होंगे और अच्छे नागरिक बनेंगे।’ इसके अलावा उन्होंने लिखा कि कि आप ऐसे ही कार्यक्रम करते रहे ऐसी शुभेच्छा है। राज्य सरकार में मंत्री द्वारा ऐसे पत्र लिखने पर हंगामा खड़ा हो गया। हालांकि मंत्री भूपेंद्र सिंह को मानना है कि उन्होंने कुछ भी गतल नहीं किया। मंत्री ने पत्रकारों से कहा कि उन्होंने शुभेच्छा भेजकर कोई गलत काम नहीं किया।

बता दें कि, बीते साल नवंबर में भी गुजरात की सरकार का आसाराम के लिए मोह दिखा था। गुजरात के अहमदाबाद में आयोजित एक बुक फेयर में आसाराम की किताबों वाले स्टॉल को लेकर विवाद हुआ था। इस बुक फेयर का आयोजन अहमदाबाद म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन की तरफ से किया गया है। ‘संत श्री आसारामजी सत्यसाहित्य मंदिर’ नाम के स्टाल में धर्म, अध्यात्म, मानव मूल्यों और महिला उत्थान जैसे मुद्दों पर किताबें थीं। इस बुक फेयर का उद्घाटन सीएम विजय रुपाणी ने 24 नवंबर 2018 को किया था। लोगों ने नगर निगम के फैसले पर सवाल उठाया है कि कैसे नाबालिग के रेप के मामले में उम्रकैद की सजा पा चुके एक शख्स पर आधारित किताबों के स्टॉल को लगाने की इजाजत दे दी गई।

गौरतलब है कि, बलात्कार के मामले में आसाराम जेल की सजा काट रहे हैं। वह अभी राजस्थान की जोधपुर जेल में बंद हैं। साध्वी ने आरोप लगाया था कि आसाराम ने इलाज के बहाने जोधपुर के एक फार्म हाउस में उसका यौन उत्पीड़न किया था। आसाराम बीते करीब पांच साल से जेल में बंद है। हालांकि उनकी तरफ से कई बार बेल लेने की कोशिश की गई। लेकिन जमानत मिल नहीं पाई।

पढें गुजरात (Gujarat News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट