ताज़ा खबर
 

जसदण जीत बीजेपी ने छुआ 100 का आंकड़ा, इन दो नेताओं के झगड़े से ढहा कांग्रेस का किला!

जसदण में कांग्रेस की हार के लिए विशेष रूप से गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी (GPCC) के अध्यक्ष अमित चावड़ा और विपक्ष के नेता परेश धनानी को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सौराष्ट्र क्षेत्र की जसदण सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस को हराकर गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा में सीटों का शतक (100 सीटें) पूरा कर लिया। नतीजे की घोषणा रविवार (23 दिसंबर, 2018) को हुई। भाजपा उम्मीदवार कुंवरजी बावलिया के लिए जीत महज एक औपचारिकता थी। उन्होंने यह सीट बरकरार रखी है, वह 2017 में बतौर कांग्रेस उम्मीदवार यहां से जीते थे। बावलिया के कांग्रेस से इस्तीफे के कारण यहां उपचुनाव कराने की जरूरत पड़ी, जिसके लिए मतदान 20 दिसंबर को हुआ था। बावलिया ने कांग्रेस के अवसर नाकिया को करीब 20 हजार वोटों से हराया है, जो कि किसी समय उनके प्रचार प्रबंधक रहे थे।

जानना चाहिए कि जसदण में कांग्रेस की हार के लिए विशेष रूप से गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी (GPCC) के अध्यक्ष अमित चावड़ा और विपक्ष के नेता परेश धनानी को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। दोनों नेताओं पर आरोप लग रहे हैं कि दोनों के बीच मतभेदों के बाद दोनों सही उम्मीदवार चुनने में नाकामयाब रहे और मतदान केंद्रों में बूत स्तर पर भी ठीक से काम नहीं किया गया। अहमदाबाद मिरर से कांग्रेस के कम से कम छह सीनियर नेताओं और जमीनी स्तर से जुड़े 12 कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि अमित चावड़ा पूरी तरह से एकतरफा हैं, उनमें नेतृत्व के गुणों का अभाव है। साल 2009 से कांग्रेस का गढ़ रहे जसदण का चुनाव अमित चावड़ा के लिए पहला लिटमस टेस्ट था।

हालांकि उन्होंने उप चुनाव के दौरान महज दो रैलियों को संबोधित किया। इसके अलावा वह कार्यकर्तआों को बनाए नहीं रख सके। गुजरात के इतिहास में ऐसा दूसरी बार हुआ जब यह सीट भाजपा के खाते में चली गई हो।  नाम ना छापने की शर्त पर एक नेता ने बताया, ‘हमने अवसर नाकिया को कुंवरजी बावलिया के खिलाफ चुनवी मैदान में उतारने के लिए पार्टी को आगाह किया था। उन्होंने जसदण से कम से कम पांच बार चुनाव जीता है।’ कांग्रेस नेता ने आगे बताया, ‘चावड़ा को मजूबत उम्मीदवार को चुनाव में उतारना चाहिए था, जो लोगों के बीच ना सिर्फ जसदण बल्कि पूरे सौराष्ट्र में व्यापक अपील करता।’

वहीं विपक्ष के नेता परेश धनानी का कहना है कि सरकार में चुनाव सरकारी मशीनरी का प्रयोग किया। यह जसदण के लोगों के लिए गौरव की लड़ाई थी मगर सरकार ने अपनी शक्ति का इस्तेमाल कर इसे कुचल दिया। उन्होंने कहा कि हमने जीत की पूरी कोशिश की।

Next Stories
1 गुजरात आए थे मोदी, पास ही गांव में प्रदर्शन कर भूमि अधिग्रहण का मुआवजा मांगते रहे किसान
2 सोहराबुद्दीन मामला: सस्‍पेंडेड आईपीएस ने अगस्‍त में मांगी थी वीआरएस, नहीं मिलने पर केंद्र के खिलाफ ट्रिब्‍यूनल में डाली थी अर्जी
3 बीजेपी नेता ने पोलिंग बूथ के अंदर तस्वीर खींच वॉट्सऐप पर डाली, चुनाव अधिकारियों ने मांगी रिपोर्ट
ये पढ़ा क्या?
X