पहले ही सप्ताह में भूपेंद्र पटेल सरकार को मिली दो प्रमुख चुनौतियां, विपक्ष बना सकता है चुनावी मुद्दा!

इन दो मुद्दों को अलावा अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए गुजरात की भूपेंद्र पटेल सरकार पर जिम्मेदारी होगी कि वो पाटीदारों में पार्टी की कम होती लोकप्रियता को दुरुस्त करे।

Gujarat CM, BJP Gujarat
गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल(फोटो सोर्स: Express photo)

गुजरात में पूर्व मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के इस्तीफे के बाद राज्य की कमान भूपेंद्र पटेल के हाथों में सौंपी गई है। हालांकि भूपेंद्र पटेल सरकार को अपने पहले सप्ताह में ही दो प्रमुख चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। जिसमें पहला तो फोर्ड मोटर्स द्वारा भारत में साणंद संयंत्र को बंद करने का फैसला है और दूसरा कच्छ और पोरबंदर तटों से भारी मात्रा में हेरोइन जब्त होना। ये दोनों मुद्दे पटेल सरकार के लिए चुनौती पूर्ण हैं।

दरअसल गुजरात में अगला विधानसभा चुनाव होने में लगभग एक साल का समय है, ऐसे में सौराष्ट्र में आई बाढ़ से मची तबाही के बीच पटेल सरकार पर ये भी जिम्मेदारी होगी कि वो पाटीदारों में पार्टी की घटती लोकप्रियता को ठीक करे। इसके अलावा फोर्ड की साणंद निर्माण इकाई बंद होने से कई लोगों के रोजगार जाने का संकट मंडरा रहा है। ऐसे में सरकार उनके लिए क्या करती है, इसको विपक्ष मुद्दा बना सकता है। वहीं गुजरात के बंदरगाहों पर हेरोइन जब्त किए जाने को लेकर भी विपक्ष को सरकार को घेरने का मौका मिल गया है।

विपक्ष के निशाने पर भूपेंद्र सरकार: भाजपा के घोर आलोचक माने जाने वाले निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी फोर्ड के उन कर्मचारियों के साथ खड़े हैं, जिन्हें मैन्युफैक्चरिंग प्लांट बंद होने के बाद अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ रहा है। इसके अलावा कांग्रेस ने भी हेरोइन की बरामदगी को मुद्दा बनाया है। ये दोनों मुद्दे भूपेंद्र सरकार के लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं।

हेरोइन की बरामदगी: उल्लेखनीय है कि कच्छ बंदरगाह से डायरेक्ट्रेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस ने 13 सितंबर को 3004 किलोग्राम हेरोइन जब्त की थी। इसकी कीमत लगभग 21,000 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इस मामले में अब तक 8 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। जिसमें 4 अफगानी नागरिक भी शामिल हैं।

फोर्ड बंद करेगी साणंद मैन्युफैक्चरिंग प्लांट: ऑटोमोबाइल कंपनी फोर्ड मोटर ने 9 सितंबर को कहा कि “भारी नुकसान” के चलते वह भारत में अपने कारों का निर्माण बंद करेगी। इस ऐलान के बाद इस साल के अंत तक फोर्ड गुजरात में अपने साणंद प्‍लांट और अगले साल तक चेन्नई के निर्माण प्‍लांट को बंद कर देगी। कंपनी के इंडिया यूनिट हेड अनुराग मेहरोत्रा ने कहा कि, कंपनी को लॉन्ग टर्म में प्रॉफ‍िट के लिए कोई परमानेंट रास्‍ता नहीं दिखाई दे रहा है, इसलिए इसे बंद करने का फैसला लिया गया है।

पढें गुजरात समाचार (Gujarat News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट