Decision of Gujarat Government Students will taught to making puncture-गुजरात सरकार का फरमान: छठीं से आठवीं तक के बच्चों के सिखाया जाएगा पंचर बनाना - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गुजरात सरकार का फरमान: छठीं से आठवीं तक के बच्चों के सिखाया जाएगा पंचर बनाना

गुजरात सरकार का एक फैसला चर्चा का विषय बना हुआ है। जिसमें बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पंक्चर सही करने की ट्रेनिंग देने का फैसला हुआ है।

Author नई दिल्ली | May 25, 2018 6:09 PM
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी। (File Photo)

गुजरात सरकार का एक फैसला चर्चा का विषय बना हुआ है। जिसमें बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए टॉयर का पंक्चर सही करने की ट्रेनिंग देने का फैसला हुआ है। इस बाबत शासन ने बाल मेला आयोजन की तैयारी की है। जिसका आधिकारिक पत्र भी जारी किया गया है। सोशल मीडिया पर इस पत्र को लेकर लोग मौज ले रहे हैं। कह रहे हैं कि पकौड़ा के बाद अब पंक्चर बनाना सरकार सिखाने जा रही है।

दैनिक भाष्कर में प्रकाशित एक रिपोर्ट में खबर के पीछे शासन की ओर से जारी आदेश का हवाला दिया गया है। जिसके मुताबिक कक्षा पांचवी तक के प्राथमिक स्कूलों में बाल मेला और जूनियर हाईस्कूल यानी छठीं से आठवीं कक्षा वाले स्कूलों में जीवन-कौशल मेले का आयोजन होगा। जीवन-कौशल मेले के तहत कई चीजें जूनियर हाईस्कूल के छात्रों को सिखाई जाएंगी। इसमें टायर का पंक्चर बनाना, फ्यूज बांधना, कील लगाने, कुकर बंद करने आदि की ट्रेनिंग दी जाएगी।

स्कूलों में छात्रों को पंक्चर बनाने की ट्रेनिंग का गुजरात सरकार ने जारी किया पत्र।

इस पत्र को लेकर सोशल मीडिया पर लोग मौज ले रहे हैं। सतीश मुख्तलिफ ने गुजरात मॉडल हैशटैग के साथ फेसबुक पर तंज कसते हुए लिखा-आखिर चाय, पकौड़ा और पान के बाद गुजरात में छठीं से आठवीं क्लास के बच्चों को पंक्चर बनाना सिखाया जाएगा। निशा सिंह यादव ने इसे स्कूली शिक्षा का गुजरात मॉडल बताते हुए मौज ली, कहा-पढ़ेगा इंडिया, तभी बढ़ेगा इंडिया, पान बेचो, पकौड़े का ठेला लगाओ और अब नया पंक्चर बनाओ।

स्कूलों में छात्रों को पंक्चर बनाने की ट्रेनिंग के फैसले पर सोशल मीडिया यूजर्स की प्रतिक्रियाएं। स्कूलों में छात्रों को पंक्चर बनाने की ट्रेनिंग के फैसले पर सोशल मीडिया यूजर्स की प्रतिक्रियाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App