ताज़ा खबर
 

कांग्रेसी विधायक को पहनाई जूते-चप्पल की माला, वीडियो हुआ वायरल, जानिए क्या थी वजह

कांग्रेसी विधायक गयासुद्दीन शेख ने कहा कि उस आदमी ने पहले ही उन्हें धमकी दी लेकिन फिर उन्होंने अपना कार्यक्रम नहीं बदला।

कांग्रेस विधायक गयासुद्दीन शेख का कहना है कि उन्हें पहले से पता था कि ऐसा होने वाला है। (वीडियो स्क्रीनशॉट)

गुजरात के अहमदाबाद में स्थानीय कांग्रेसी विधायक को जूतों की माला पहनाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रह है। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अहमदाबाद दरियापुर के विधायक गयासुद्दीन शेख बुधवार (चार अक्टूबर) को जब शाहपुर पहुंचे तो एक व्यक्ति ने उनका स्वागत जूते-चप्पलों की माला पहनाकर किया। विधायक ने समाचार एजेंसी से कहा कि उन्हें पता था कि ऐसा होने वाला है। विधायक ने कहा कि जिस आदमी ने उन्हें जूते-चप्पल की माला पहनायी वो जुआघर चलाता था और उसका गैर-कानूनी धंधा बंद कराने की वजह से वो उनसे नाराज था। कांग्रेस विधायक ने कहा, “वो बंदा कभी मेरा बहुत करीबी था। मेरे दोस्त जैसा था। लेकिन जब मुझे पता चला कि वो गैर-कानूनी जुआघर चलाता है तो मैंने पुलिस को इसकी सूचना दी और उसका गैर-कानूनी धंधा बंद हो गया। मेरे इलाके के लोग जुआ और शराब के कारोबार को लेकर मेरा नजरिया जानते हैं।”

विधायक शेख के अनुसार जूते-चप्पल की माला पहनाने वाले व्यक्ति ने उन्हें पहले ही धमकी दी थि कि वो उसका ऐसे स्वागत करेगा। विधायक ने कहा कि धमकी के बावजूद उन्होंने अपना दौरा नहीं रद्द किया। विधायक ने कहा, “मैंने तो उसे जूते-चप्पल की माला पहनाने भी दी। मैंने उससे साफ कहा कि ऐसे कामों को लेकर मेरा नजरिया नहीं बदलेगा।” शेख ने पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने और जीएसटी से व्यापारियों को हो रही दिक्कतों के विरोध में रैली निकाली थी। इस घटना से एक दिन पहले गुजरात में ही बीजेपी के एक पार्षद को उसके वार्ड के नाखुश लोगों ने पिटाई कर दी थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात में पहली बार हुआ ‘अंबेडकर गरबा’, नवरात्रि में आरती हुई, ‘जय जय अंबेडकर बाबा जय जय’
2 गुजरात: दलित बोले- देवता से अच्‍छा है अंबेडकर की पूजा, आयोजित किया अंबेडकर गरबा
3 गुजरात: मूँछ रखने पर दलित किशोर को मारा ब्लेड, एक हफ्ते में तीसरी घटना, विरोध में दलितों ने “मूँछ” को बनाया व्हाट्सऐप डीपी