ताज़ा खबर
 

गुजरात कांग्रेस को एक और झटका, शंकर सिंह वाघेला के बेटे बीजेपी में शामिल

इससे पहले पिछले पखवाड़े में कांग्रेस के दिग्गज नेता व विधायक कुंवरजी बावलिया और राजकोट के कद्दावर नेता व पूर्व विधायक इंद्रनील राज्यगुरु ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। बावलिया के भाजपा में शामिल होते ही उन्हें कैबिनेट मंत्री बना दिया गया और अब महेंद्रसिंह भाजपा में शामिल हो गए हैं।

गांधीनगर में शनिवार 14 जुलाई को गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष जीतू बगानी, महेन्द्र सिंह वाघेला (बाएं से तीसरे) और डिप्टी सिंह नितिन पटेल (Express Photo)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के गुजरात पहुंचने के 48 घंटों से भी कम समय में कांग्रेस को झटका लगा है। कांग्रेस के पूर्व विधायक और कद्दावर नेता शंकर सिंह वाघेला के बेटे महेंद्र सिंह वाघेला शनिवार को भाजपा में शामिल हो गए हैं। बीजेपी में शामिल होने के बाद उन्होंने कहा कि वे हर किसी तरह के उत्तरदायित्व को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा, “जहां तक मेरे पिता जी का बीजेपी ज्वाइन करने का सवाल है, इसका जवाब सिर्फ वही दे सकते हैं।” महेन्द्र सिंह कांग्रेस के विधायक रह चुके हैं। पिछले साल उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी। तब उनके पिता शंकर सिंह वाघेला ने कांग्रेस आलाकमान से बगावत की थी। ये तब की बात है जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल गुजरात से राज्यसभा जाने की तैयारी कर रहे थे।

महेंद्र सिंह ने 2012 में उत्तर गुजरात के बयाड विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की थी, लेकिन दिसंबर 2017 में हुए चुनावों का वह हिस्सा नहीं बने थे। बता दें कि पिछले साल शंकर सिंह वाघेला के नेतृत्व में कांग्रेस के 13 विधायकों ने पार्टी आलाकमान के खिलाफ बगावत कर दिया था। वाघेला ने जुलाई में अपने 77वें जन्मदिन पर इसकी घोषणा की थी। इससे पहले पिछले पखवाड़े में कांग्रेस के दिग्गज नेता व विधायक कुंवरजी बावलिया और राजकोट के कद्दावर नेता व पूर्व विधायक इंद्रनील राज्यगुरु ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। बावलिया के भाजपा में शामिल होते ही उन्हें कैबिनेट मंत्री बना दिया गया और अब महेंद्रसिंह भाजपा में शामिल हो गए हैं। गुजरात विधानसभा में अपेक्षाकृत पहले से ठीक प्रदर्शन करने वाली कांग्रेस के लिए ये राजनीतिक घटनाक्रम किसी झटके से कम नहीं है। 2019 में लोकसभा चुनाव होने की वजह से भी इसका असर पार्टी के परफॉर्मेंस पर पड़ सकता है।इस राजनीतिक चाल के रणनीतिकार माने जाने वाले अमित शाह गुरुवार शाम को अहमदाबाद पहुंचे थे और शनिवार तड़के भगवान जगन्नाथ की पारंपरिक रथ यात्रा शुरू करने के लिए मंगल आरती की।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App