ताज़ा खबर
 

अहमद पटेल की किस्मत का फैसला आज

गुजरात परिवर्तन पार्टी के टिकट पर चुने गए विधायक नलिन कोटडिया ने अपनी पार्टी का भाजपा में विलय कर लिया था। अब वे बागी हो गए हैं और उनका वोट कांग्रेस को जाने की संभावना जताई जा रही है।
Author नई दिल्ली/आणंद | August 8, 2017 02:14 am
कांग्रेस नेता अहमद पटेल।

गुजरात के 44 कांग्रेसी विधायक सोमवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बंगलुरु से अमदाबाद ले जाए गए। इन सभी को अमदाबाद से 77 किलोमीटर दूर आणंद स्थित एक रिसॉर्ट में रखा गया है। मंगलवार को राज्यसभा चुनाव में मतदान के लिए इन सभी को वहीं से ले जाया जाएगा। कांग्रेस ने उम्मीद जताई है कि उसके उम्मीदवार अहमद पटेल जीत जाएंगे और कांग्रेस विधायक दल में की जा रही भाजपा की तोड़फोड़ का असर नहीं होगा। गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए होने वाले चुनाव कांग्रेस और भाजपा- दोनों के लिए प्रतिष्ठा का मुद्दा बन गए हैं। मौजूदा विधानसभा परिसर में मरम्मत कार्य के कारण मतदान स्थल गांधीनगर में मुख्य प्रशासनिक परिसर (स्वर्णिम संकुल दो) में बनाया गया है। कांग्रेस पार्टी अपने उम्मीदवार के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के दो विधायकों का समर्थन भी पाने की कोशिश कर रही है। राकांपा ऐन मतदान के पहले अपने पत्ते खोलेगी। कांग्रेस ने पहले ही अपनी पार्टी के विधायकों को केवल अहमद पटेल को वोट करने का व्हिप जारी कर रखा है। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि गुजरात राज्यसभा चुनाव में भाजपा बाकी पेज 8 पर लगातार जनादेश का अपमान कर रही है। लेकिन हमें पूरा भरोसा है कि अहमद पटेल जीतेंगे। सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा वहां राजनीति के स्तर को नीचे गिरा रही है।

कांग्रेस के छह विधायकों के इस्तीफे के बाद 182 सदस्यीय विधानसभा में अब कुल 176 विधायक बचे हैं, जिन्हें मताधिकार है। 27 और 28 जुलाई को कांग्रेस के 57 में से 6 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था। इनमें से तीन भाजपा में शामिल हो गए थे। इसके बाद कांग्रेस ने भाजपा पर विधायकों को तोड़ने के प्रयास का आरोप लगाते हुए अपने 44 विधायकों को बंगलुरु भेज दिया था। तकनीकी रूप से विधानसभा में भाजपा के पास 122 वोट हैं। कांग्रेस के 51, राकांपा के दो और जद (एकी) के पास एक वोट हैं। गुजरात परिवर्तन पार्टी के टिकट पर चुने गए विधायक नलिन कोटडिया ने अपनी पार्टी का भाजपा में विलय कर लिया था। अब वे बागी हो गए हैं और उनका वोट कांग्रेस को जाने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में कांग्रेस पार्टी के नेता पटेल की जीत के लिए जरूरी 45 का आंकड़ा अपने पास होने का दावा कर रहे हैं। गुजरात में 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सहयोगी रही राकांपा ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। कांग्रेस के नेता राकांपा प्रमुख शरद पवार से बातचीत कर रहे हैं। राकांपा के प्रफुल्ल पटेल ने सोमवार को कहा कि फिलहाल हम किसी के सहयोगी नहीं हैं। राज्य समेत पार्टी प्रमुख शरद पवार से बात करेगी।

भाजपा ने तीन उम्मीदवार खड़े कर दिए हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के अलावा कांग्रेस छोड़कर आने वाले बलवंत सिंह राजपूत को लड़ाया जा रहा है। कांग्रेस से बगावत कर अलग होने वाले शंकर सिंह वाघेला के समधी राजपूत का सीधा मुकाबला कांग्रेस के पटेल से है। गुजरात कांग्रेस में पिछले एक पखवारे से चल रही उथल-पुथल में राजपूत समेत छह विधायक टूटकर भाजपा का दामन थाम चुके हैं। वाघेला के पुत्र महेंद्र समेत सात अन्य विधायक कांग्रेस आलाकमान के संपर्क में नहीं हैं। बचे 44 विधायकों को अपने पाले में रखने के लिए कांग्रेस नेतृत्व तमाम उपाय कर रहा है। कांग्रेस के नेताओं ने भाजपा पर विधायकों को 15-15 करोड़ का लालच और धमकी देकर तोड़ने की साजिश का आरोप लगाया। इन विधायकों को गुजरात से बंगलुरु ले जाकर 10 दिन तक रखा गया। .

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.