राष्‍ट्रपति चुनाव: बीजेपी विधायक ने खुलेआम की बगावत, अमित शाह पर कुर्सी चलाने वाले गैंग में भी थे नलिन कोटाडिया - President Election Rashtrapati Chunav 2017: BJP MLA Nalin Kotadiya is Openly Defiant, Was taken into Custody for Throwing Chairs on Amit Shah - Jansatta
ताज़ा खबर
 

राष्‍ट्रपति चुनाव: बीजेपी विधायक ने खुलेआम की बगावत, अमित शाह पर कुर्सी चलाने वाले गैंग में भी थे नलिन कोटाडिया

राष्ट्रपति चुनाव 2017 : नलिन कोटाडिया ने कहा कि बीजेपी की गुजरात सरकार ने पाटीदार समाज के 14 लोगों की हत्या की है और उनकी मांगें पूरी नहीं की है इसलिए वो उसके खिलाफ वोट करेंगे।

नलिन कोटाडिया गुजरात के धारी से विधायक हैं। (तस्वीर- फेसबुक)

सोमवार (17 जुलाई) को हो रहे राष्ट्रपति चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 30 दलों का समर्थन होने का दावा कर रही है लेकिन खुद पार्टी के एक विधायक ने खुलेआम एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को वोट न देने की घोषणा की है। बीजेपी के लिए ज्यादा चिंता की बात ये है कि ये विधायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के गृह प्रदेश गुजरात के हैं। गुजरात के धारी विधान सभा के बीजेपी विधायक नलि कोटाडिया। नलिन कोटाडिया ने राष्ट्रपति चुनाव में मतदान से पहले एक निजी समाचार चैनल से कहा कि चाहे जो भी परिणाम हो वो रामनाथ कोविंद को वोट नहीं देंगे। कोटाडिया ने साफ किया कि वो रामनाथ कोविंद के खिलाफ नहीं हैं, बल्कि वो बीजेपी के विरोध में हैं।  राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और कांग्रेस समेत 18 विपक्षी दलों की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच मुकाबला है। चुनाव के नतीजे 20 जुलाई को आएंगे।

समाचार चैनल एबीपी न्यूज से कोटाडिया ने कहा  कि बीजेपी की गुजरात सरकार ने पाटीदार समाज के 14 लोगों की हत्या की है और उनकी मांगें पूरी नहीं की है इसलिए वो उसके खिलाफ वोट करेंगे। कोटाडिया ने कहा कि अगर पार्टी उन्हें बरखास्त करती है तो उन्हें इसकी कोई परवाह नहीं है। गुजरात में इस साल के अंत में विधान सभा चुनाव हैं। पिछले कुछ सालों में राज्य के पाटीदार समाज ने बीजेपी सरकार के विरोध में कई प्रदर्शन किए जिनका नेतृत्व हार्दिक पटेल करते हैं। गुजरात के उना में कथित गौरक्षकों द्वारा दलितों की पिटाई के बाद दलितों ने भी कई बड़े विरोध प्रदर्शन किए थे। पाटीदारों और दलितों के विरोध प्रदर्शन के चलते राज्य की बीजेपी सरकार आगामी चुनाव को लेकर चिंतित बताई जाती है।

नलिन कोटाडिय का ये बगावती तेवर नया नहीं है। पिछले साल सितंबर में जब गुजरात में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली में कुर्सियां और टोपियां उछाली गईं और तोड़फोड़ की गई तो पुलिस ने जिन 200 लोगों को हिरासत में लिया उनमें नलिन कोटाडिया भी शामिल थे। नलिन कोटाडिया लगातार पाटीदार आंदोलन के समर्थन में और बीजेपी सरकारों के खिलाफ बयान देते रहे हैं लेकिन बीजेपी बस इतना कहकर किनारा करती रही है कि कोटाडिया बीजेपी के सक्रिय सदस्य नहीं हैं।

पिछले साल दिसंबर में मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया नलिन कोटाडिया ने आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की थी। खबरों में दावा किया गया कि नलिन कोटाडिया समेत कई बीजेपी विधायक इस साल के अंत में होने वाले गुजरात विधान सभा चुनाव से पहले आप का दामन थाम सकते हैं।

नलिन कोटाडिया तब भी विवादों से घिरे थे जब कथित तौर पर उनके और एक प्रॉपर्टी डीलर के बीच हुई कथित बातचीत में दो करोड़ रुपये घूस मांगते बताए गए। नलिन कोटाडिया का एक कथित ऑडियो सामने आया था जिसमें वो कथित तौर पर बीजेपी एमएलए सुरेंद्र पटेल से बातचीत करते बताए गए। इस कथित बातचीत में राज्य की तत्कालीन सीएम आनंदीबेन पटेल पर जमीन घोटाले में पैसा लगाने का आरोप लगाया गया था। आनंदीबेन को बाद में अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा और उनकी जगह विजय रूपानी गुजरात के सीएम बने।

वीडियो- गुजरात में नाराज दलितों को मनाने के लिए आरएसएस ने बनाई है योजना 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App