scorecardresearch

Jamnagar Taziya: गुजरात के जामनगर में ताजिया निकाले जाने के दौरान दो की करंट लगने से मौत, 10 जख्‍मी

Muharram Accident, Jamnagar Tazia Procession 2 People Died 10 Injured Due To Electrocution: इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक हादसा जामनगर के धरारनगर 2 के इलाके में रात तकरीबन 11.15 बजे हुआ। मारे गए लोगों की पहचान 23 साल के आसिफ मलेक और 20 साल के मोहम्मद वाहिद पठान के रूप में हुई है।

Jamnagar Taziya: गुजरात के जामनगर में ताजिया निकाले जाने के दौरान दो की करंट लगने से मौत, 10 जख्‍मी
जामनगर ताजिया जुलूस दुर्घटना, Jamnagar Tazia Procession मोहर्रम के दौरान ताजिया के जुलूस निकालते मुस्लिम। (एक्सप्रेस फोटो)

Muharram Processions: मोहर्रम के जुलूस के दौरान गुजरात के जामनगर में एक दुखद वाकया सामने आया है। ताजिया निकाले जाने के दौरान एक बिजली की तार की चपेट में आने से 2 लोगों की मौत हो गई। जबकि 10 गंभीर रूप से जख्मी हो गए। सभी को इलाज के लिए अस्पताल में दाखिल कराया गया है। घटना सोमवार और मंगलवार के बीच की रात के दौरान हुई।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक हादसा जामनगर के धरारनगर 2 के इलाके में रात तकरीबन 11.15 बजे हुआ। मारे गए लोगों की पहचान 23 साल के आसिफ मलेक और 20 साल के मोहम्मद वाहिद पठान के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि ऊपर जा रहे तारों से एक डंडा संपर्क में आ गया था। उसके बाद जोर का झटका लगा और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।

पुलिस का कहना है किस ताजिया को लेकर जा रहे लोगों के पैर गटर के कवर पर पड़ गया था। इसकी वजह से ताजिया हिला और जो लोग तारों को इसके रास्ते से हटाने के लिए डंडा लेकर आगे चल रहे थे वो बिजली की तार की चपेट में आ गए। उस दौरान बारिश भी हो रही थी, जिसकी वजह से हादसा हो गया।

जामनगर के एसपी प्रेमसुख डेलु ने बताया कि ये मन्नत का ताजिया था। जामनगर की कोई ताजिया कमेटी इसमें शामिल नहीं थी। एक बार जुलूस शुरू हुआ को जामनगर के लोग भी इसमें शामिल हो गए। ताजिया काफी ऊंचा था। एक संकरे रास्ते से गुजरने के दौरान हादसा हो गया। उका कहना है कि एक्सीडेंटल डेथ का केस जामनगर के बी डिवीजन थाने में दर्ज किया गया है।

ध्यान रहे कि पैगंबर मोहम्मद के पोते इमाम हुसैन की मौत पर मातम मनाने के लिए मुस्लिम समुदाय के लोग मोहर्रम के दौरान ताजिया निकालते हैं। इसमें इमाम की कब्र की प्रतिकृति को दर्शाया जाता है। मुस्लिम समुदाय के लोग लगातार पांच दिनों तक पैगंबर के पोते के लिए ताजिया निकालकर मातम मनाते हैं।

पढें अहमदाबाद (Ahmedabad News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट