ताज़ा खबर
 

गुजरात आंदोलन का मुख्य चेहरा जिगनेश मेवानी, अब हैं AAP के प्रवक्ता, कभी थे पत्रकार

इन सब के साथ मेवानी गुजारत में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता भी हैं।

Jignesh Mevani, gujrat, dalitअहमदाबाद में विरोध प्रदर्शन के दौरान जिगनेश मेवानी। (Express Photo: Javed Raja)

दलित परिवार की पिटाई के बाद गुजरात में एक दलित नेता उभरकर सामने आ रहा है। जो शख्स गुजरात में दलित आंदोलन को संभाले हुए है उसका नाम जिगनेश मेवानी है। जिगनेश 35 साल के हैं और गुजरात में चल रहे दलित आंदोलन का प्रमुख चेहरा हैं। जिगनेश ने इंग्लिश लिट्रेचर से ग्रेजुएशन किया है, वह पत्रकार भी रह चुके हैं। फिलहाल वह वकालत कर रहे हैं। ऊना में दलितों पर हुए अत्याचार के बाद जिगनेश ने ही दलित लोगों को समाज की गंदगी उठाने से मना किया था। इसमें तय हुआ था कि दलित समुदाय के लोग ना तो मैला उठाएंगे और ना ही मरे हुए पशुओं को लेकर जाएंगे।

AAP के साथ हैं: इन सब के साथ मेवानी गुजारत में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता भी हैं। अपने राजनीतिक करियर के बारे में बात करते हुए उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘200 प्रतिशत मैं राजनीति में आऊंगा। लेकिन मैं आम आदमी पार्टी से इसलिए जुड़ा हूं ताकि दलित समुदाय के लिए जो मैं करना चाहता हूं वह सब कर सकूं।’

जिगनेश को लगता है कि अगर दलित समुदाय के लोग पहले से साथ आ जाते तो ऐसा नहीं होता। वह 2012 में गुजरात में तीन दलितों की हत्या का मुद्दा उठाते हुए वह कहते हैं कि अगर सब लोग तब एक हुए होते तो यहां तक की नौबत ही नहीं आती। हालांकि, जिगनेश यह भी मानते हैं कि अबकी बार सब लोग उनके साथ हैं जिसमें दलित के अलावा मुस्लिम और बाकी जातियों के लोग भी शामिल हैं।

1980 में जन्मे मेवानी का घर मेहसाणा जिले में है। उनका घर जिस इलाके में वहां दलित ज्यादा हैं। उनके पिता अहमदाबाद म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन में क्लर्क थे जो कि अब रिटायर हो चुके हैं। उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन अहमदाबाद के H K Arts College से की थी। वहीं उन्होंने पत्रकारिता की पढ़ाई Bhavan’s College से की थी। मेवानी ने गुजराती मैगजीन और एक गुजराती अखबार के लिए लगभग 4 साल तक काम किया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात: अंबानी परिवार के दामाद सौरभ पटेल को नहीं बनाया मंत्री, 14 साल में पहली बार पत्ता कटा
2 गुजरात के ‘शाह’ रुपानी ने आनंदीबेन को दिया झटका, पूर्व मुख्यमंत्री के वफादारों को नए मंत्रिमंडल में नहीं मिली जगह
3 रंगून में हुआ था जन्‍म, आसान नहीं रहा रुपानी का RSS कार्यकर्ता से गुजरात का CM बनने का सफर
ये पढ़ा क्या?
X