ताज़ा खबर
 

गुजरात: बच्ची के रेप से भड़के लोगों ने बनाया उत्तर भारतीयों को निशाना, राज्य छोड़ने की भी धमकी

28 सितंबर को साबरकंठा में एक मजदूर ने एक बच्ची के साथ कथित तौर पर बलात्कार किया था। आरोपी रविंद्र कुमार बिहार का मूल निवासी है, और कारखाने में काम करता था।

भीड़ ने सब्जी की गाड़ियां तोड़ीं और लोगों पर हमला किया। इससे रिक्शा चालक के कंधे और अंगुली में फेक्चर हो गया।

गुजरात के साबरकंठा जिले के हिम्मतनगर में 14 महीने की बच्ची के बलात्कार के विरोध में शहर में प्रदर्शन ने खतरनाक मोड ले लिया है। दरअसल प्रदर्शनकारियों ने उत्तर प्रदेश और बिहार के मूल निवासी लोगों को निशाना बनाना शुरू कर दिया। वहीं उन्हें राज्य छोड़ने की धमकी भी दे रहे हैं। पुलिस ने इस मामले में दो एफआईआर दर्ज की हैं। शहर में यूपी के मूल निवासियों को टारगेट किया गया। चांदलोडिया में भीड़ ने एक आदमी पर हमला किया और साबरमती में भीड़ ने एक महिला का पीछा किया और धमकी दी। पहली घटना 23 साल के ऑटोरिक्शा चालक केदारनाथ के साथ हुई। केदारनाथ गुजरात के चांदलोडिया में रहते हैं। वैसे केदारनाथ उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर के मूल निवासी हैं। उन्होंने सोला पुलिस को बताया कि लगभग 25 लोगों ने चांदलोडिया ब्रिज पर उन्हें टारगेट बनाया था।

एफआईआर में केदारनाथ बताया कि, भीड़ चिल्ला रही थी कि बाहरी लोगों को राज्य छोड़ना चाहिए और गुजराती लोगों को बचाया जाना चाहिए। भीड़ ने सब्जी की गाड़ियां तोड़ना और लोगों पर हमला करना शुरू कर दिया। जब मैंने भागने की कोशिश की, तो उन्होंने मुझे रोक लिया, मेरे ऑटोरिक्शा के आगे वाले शीशे पर टक्कर मारी और मुझे डंडे से पीटा। मेरी अंगुली और कंधे में फेक्टर हो गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक भीड़ ने आठ चार पहिया, एक लोडिंग रिक्शा और एक दोपहिया वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि केदारनाथ पर हमला करने वाले सभी लोग जानते थे कि वह यूपी से हैं, उन्होंने कहा कि उन्होंने भीड़ में 10 लोगों की पहचान की, जिन्हें बाद में सोला पुलिस ने हिरासत में लिया।

दूसरी घटना 23 साल की महिला प्रतिमा कोरी के साथ हुई। वह एक मॉल में स्किन केयर स्पेशलिस्ट हैं। उन्होंने बताया कि वह जब वह पैदल अपने घर जा रही थीं तो साबरमती में रेलवे ब्रिज के पास चार लोगों ने उन्हें घेर लिया था। कोरी ने अपनी एफआईआर में कहा कि वह उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के मूल निवासी हैं। 4 लोगों ने मेरा पीछा करना और दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया। वे लगातार कह रहे थे कि यूपी और बिहार के लोगों को शहर छोड़ना होगा या वे मारे जाएंगे। मैं इतना डर ​​गई थी कि मैंने घर जाने के लिए दौड़ना शुरू कर दिया। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम को कॉल किया और एफआईआर दर्ज कराई। आपको बता दें कि 28 सितंबर को साबरकंठा में एक मजदूर ने एक बच्ची के साथ कथित तौर पर बलात्कार किया था। आरोपी रविंद्र कुमार बिहार का मूल निवासी है, और कारखाने में काम करता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App