ताज़ा खबर
 

गुजरात: जिस होटल में पाटीदार नेताओं से मिले अशोक गहलोत, वहां के सीसीटीवी फुटेज ले गई पुलिस और IB

अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा है कि आईबी और पुलिस किसके इशारे पर सीसीटीवी फूटेज ले गई।

Author October 24, 2017 08:36 am
पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल (फाइल फोटो)

सोमवार (23 अक्टूबर) को वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि गुजरात के जिस होटल में वो पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल से मिले थे उसकी सीसीटीवी फूटेज स्थानीय पुलिस और आईबी के लोग ले गये। अहमदाबाद स्थित इस होटल में हार्दिक पटेल से अशोक गहलोत और उसी दिन सुबह कांग्रेस में शामिल हुए अल्पेश ठाकोर की मुलाकात हुई थी। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के महासचिव गहलोत ने इंडियन एक्स्प्रेस से कहा कि होटल के अधिकारियों ने उन्हें बताया कि “आईबी और पुलिस के लोग पूछताछ कर रहे थे कि किससे कौन मिलने आया था…उसके बाद वो होटल का सीसीटीवी फूटेज ले गये और उसे मीडिया को दे दिया।”

सोमवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी गुजरात के दौरे पर थे। कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा था कि हार्दिक पटेल राहुल गांधी से मिल सकते हैं। अशोक गहलोत ने कहा, “राहुल गांधी से मिले, किस से मिले , क्या हुआ…इनको क्या मतलब है। कौन किस से मिला इनको क्या मतलब है। कोई भगोड़ा है क्या?”  जिस उम्मेद होटल में अशोक गहलोत ने  हार्दिक पटेल से मुलाकात की उसने भी सीसीटीवी फूटेज लिए जाने से इनकार नहीं किया। होटल के चीफ सिक्योरिटी अफसर विक्रम सिंह शेखावत ने कहा, “पुलिस ने किसी कमरे की तलाशी नहीं ली लेकिन वीवीआईपी की आवाजाही की वजह से होटल में दिन भर पुलिस और आईबी के कई लौग तैनात रहे। पुलिस ने हमसे सीसीटीवी फूटेज मांगा और प्रबंधन से बात करने के बाद हमने उन्हें वो सौंप दिया।”

जब कुछ टीवी चैनलों पर कथित तौर पर हार्दिक पटेल का होटल की लिफ्ट में चढ़ने का सीसीटीवी फूटेज दिखाया जाने लगा तो उसके कुछ देर बाद अशोक गहलोत ने मीडिया से सीसीटीवी फूटेज लिए जाने की बात कही। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि हार्दिक पटेल राहुल गांधी से मिलने के लिए होटल गये थे। गहलोत ने बताया कि रात में हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकुर उनसे अलग-अलग मिले थे। गहलोत के अनुसार होटलवालों ने उन्हें बताया कि आईबी और पुलिसवाले जानना चाहते थे कि क्या हार्दिक पटेल रात को अशोक गहलोत के कमरे में रुके थे। गहलोत ने कहा, “…मैंने पहली बार किसी को इस हद तक गिरते हुए देखा है…जय शाह के बारे में वो अदालत में निजता की बात करेंगे लेकिन यहां वो सीसीटीवी फूटेज मीडिया को दे रहे हैं।”

अशोक गहलोत ने ट्विटर पर इस मुद्दे को उठाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस बाबत सवाल किया। अशोेक गहलोत ने कहा, “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछना चाहता हूं कि इसके पीछे कौन है…सीसीटीवी फूटेज मीडिया में कैसे चला गया…क्या स्थानीय आईबी या पुलिस की वजह से, वो बीजेपी सरकार, उसके नेता, मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री या प्रधानमंत्री कार्यालय के संकेत के बिना कुछ नहीं करेंगे…और सीसीटीवी फूटेज चाहिए क्यों? क्या अल्पेश, हार्दिक और जिग्नेश मेवानी भगोड़े हैं?” गुजरात के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा और अहमदाबाद के पुलिस कमिश्नर एएसके सिंह ने गहलोत द्वारा लगाया आरोपों का कोई जवाब नहीं दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App