ताज़ा खबर
 

उना दलित पिटाई कांड: CID ने चार्जशीट में लिखा- पुलिस ने बीफ पाए जाने का झूठा केस बनाया, दलितों को बचाने आए लोगों को धमकाया

सीआईडी की चार्जशीट के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में दलितों के पास बीफ पाए जाने का झूठा केस बनाया और पिट रहे दलितों को जब लोग बचाने के लिए आगे आए तो उन्हें धमकाया भी।

Author नई दिल्ली | September 8, 2016 09:17 am
गुजरात के उना में दलितों की पिटाई वाले मामले में इस प्रकरण की जांच कर रही सीआईडी क्राइम ने बुधवार को अदालत में आरोप पत्र दायर कर दिया।

गुजरात के उना में गत जुलाई माह में दलितों की पिटाई वाले मामले में इस प्रकरण की जांच कर रही सीआईडी क्राइम ने बुधवार को अदालत में आरोप पत्र दायर कर दिया। सीआईडी ने इस मामले में गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के उना थाने के तत्कालीन प्रभारी निर्मल सिंह, सब इंस्पेक्टर नरेन्द्र पांडे, महिला सहायक पुलिस सब इंस्पेक्टर कंचनबेन परमार और हेड कांस्टेबल कांजीभाई चूडासमा को कर्तव्यपालन में लापरवाही के आरोप में गिरफ्तार भी किया है।

सीआईडी ने अदालत में फाइल की गई अपनी चार्जशीट में दलितो की पिटाई में पुलिस कर्मियों की मिली भगत की बात कही है। सीआईडी की चार्जशीट के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में दलितों के पास बीफ पाए जाने का झूठा केस बनाया और पिट रहे दलितों को जब लोग बचाने के लिए आगे आए तो उन्हें धमकाया भी।

सीआईडी के सूत्रों के मुताबिक घटना के अगले दिन गाय चोरी की फर्जी शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस अच्छे से जानती थी कि शिकायत फर्जी है बावजूद इसके सरकारी दस्तवेज बनाए गए। ऐसा माहौल बनाया गया कि दलित लड़के गाय को मार कर उसका चमड़ा निकाल रहे थे। जबकि फोरेंसिक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि गाय पहले ही मरी हुई थी। पुलिस ने शिकायत फर्जी होने के बावजूद मामला दर्ज किया और इसके सरकारी दस्तवेज बनाए। सीआईडी की जांच में जल्द ही सारे मामले का खुलासा हो गया।

Read Also: एप्पल ने किया आईफोन 7 और 7 प्लस लॉन्च, जानिए क्या है फीचर्स

गौरतलब है कि जुलाई में गाय की कथित हत्या का आरोप लगा कर एक दलित परिवार की गौरक्षकों के हाथों बेरहमी से की गई पिटाई का वीडियो वायरल हुआ था। इस घटना को लेकर गुजरात समेत पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हुए थे। जिसके बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री आंनदीबेन पटेल ने मामले में सीआईडी क्राइम से जांच के आदेश दिए थे। सीआईडी क्राइम ने इस मामले में बुधवार को अदालत में 1500 पन्ने से अधिक का आरोप पत्र दायर किया। उना के वर्तमान थाना प्रभारी जी एस वाघेला ने बताया कि इस मामले में अब तक कुल मिला कर 43 गिरफ्तारियां हुई हैं, जिनमें एक नाबालिग लड़का भी शामिल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App