ताज़ा खबर
 

एयर इंड‍िया के व‍िमान को उतरना था अहमदाबाद, पर ले जाना पड़ा मुंबई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मंगलवार (25 जुलाई, 2017) को बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करते हुए। (फोटो सोर्स पीटीआई)

गुजरात में लगातार मूसलाधार बारिश की वजह से सूबे में बाढ़ इन दिनों अपना कह बरपा रही है। इसकी वजह से अहमदाबाद एयरपोर्ट का रनवे भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुआ है। जिससे एयर इंडिया के दो विमानों के रूट को भी बदलना पड़ा है। और डेल-अहमदाबाद और बोम-अहमदाबाद विमानों की मुंबई एयरपोर्ट पर लैंडिंग करानी पड़ी। बता दें कि बीते कई सप्ताह से गुजरात में भयंकर मूसलाधार बारिश अपना कहर बरपा रही है जोकि राज्य में इन दिनों विनाश का कारण बनी हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मंगलवार (25 जुलाई, 2017) को बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। सूबे के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने मंगलवार सुबह संसद भवन में पीएम मोदी से मुलाकात की और राज्य में भारी बारिश से पैदा हुए बाढ़ के हालातों के बारे में जानकारी दी। वहीं प्रधानंत्री कार्यलाय का अनुसार, ‘गुजरात की स्थिति जानने के लिए खुद प्रधानमंत्री मोदी ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया।’ रिपोर्ट के अनुसार गुजरात में भारी बारिश की वजह से अबतक 70 से ज्यादा लोग अपनी जान गवा चुके हैं। जबकि पच्चीस हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। बाढ़ प्रभावित बनासकंथा जिले के दीसा क्षेत्र में लोगों को बचाने के लिए आर्मी, इंडियन एयर फोर्स ने अभियान चलाया है। वहीं भारतीय सेना के साथ आईएएफ, एनडीआरएफ और स्थानीय सुरक्षाबलों की मदद से गुजरात के कई क्षेत्रों में बचाव अभियान चलाए गए हैं। जानकारी के लिए बता दें कि गुजरात के साथ राजस्थान भी इन दिनों बाढ़ त्रासदी से गुजर रहा है। रिपोर्ट के अनुसार बाढ़ से राजस्थान में भी दो लोगों की मौत हो चुकी है। जिसके बाद राजस्थान में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ गुजरात और राजस्थान में ही भारी बारिश नहीं हो रही बल्कि असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, नागालैंड, ओडिशा औरप बंगाल जैसे राज्यों में बाढ़ ने तबाही के हालात पैदा कर दिए हैं। बीते सोमवार से हो रही लगातार बारिश में 25,000 से ज्यादा लोगों को सुरिक्षत स्थान पर ले जाया गया। इससे पहले 17 जुलाई को छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में पिछले दिनों से हो रही भारी बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त है। वहीं बस्तर सीमा से लगे ओडिशा राज्य में भारी बारिश के चलते रेलमार्ग पर एक पुल बह जाने के कारण कई रेलगाड़ियों का आवागमन रोक दिया गया था। ऐसी स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार ने बस्तर में कार्यरत वायुसेना के हेलीकॉप्टर को बचाव कार्य के लिए ओडिशा रवाना किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App