ताज़ा खबर
 

गुजरात: स्‍ट्रीट लाइट के नीचे लगी अदालत, साढ़े 4 घंटे में जज ने 29 आरोपियों को भेजा जेल

मामला अहमदाबाद के छारनगर का है। यहां गुरुवार रात पुलिस अवैध शराब के धंधे में शामिल आरोपियों को पकड़ने के लिए पहुंची थी। इस दौरान पुलिस और स्थानीय लोगों की बीच हुई भिड़ंत के मामले में 29 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

गुजरात में एक जज अपने फैसले की वजह से सुर्खियों में बने हुए हैं। दरअसल बीते शुक्रवार-शनिवार की रात जज ने रात से 11 बजे से सुबह साढ़े तीन बजे तक एक मामले की सुनवाई की। मामले की सुनवाई पूरे होने पर दोषी साबित हुए 29 आरोपियों तुरंत जेल भेज दिया। जानकारी के मुताबिक मामला अहमदाबाद के छारनगर का है। यहां गुरुवार रात पुलिस अवैध शराब के धंधे में शामिल आरोपियों को पकड़ने के लिए पहुंची थी। इस दौरान पुलिस और स्थानीय लोगों की बीच हुई भिड़ंत के मामले में 29 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। सभी को रात को ही जिला अदालत में पेश किया गया।

हालांकि मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किए जाने पर आरोपियों ने पुलिस अधिकारियों के खिलाफ शिकायतें दर्ज कराईं। इसमें बताया गया कि पुलिस ने घर में घुसकर जबरन मारपीट की और वाहनों को क्षतिग्रस्त किया। इस दौरान आरोपियों ने मजिस्ट्रेट को घाव के निशान भी दिखाए। इसपर जज ने सभी आरोपियों को जेल भेजने का निर्देश देने के साथ ही मेडिकल चैकअप कराने का निर्देश दिया।

जानकारी के मुताबिक शहर के कुबेरनगर में खोड़ियार मंदिर के पास पुलिस और स्थानीय लोगों को भिड़ंत हुई। रात में ही गश्त के दौरान जब एक पुलिसकर्मी ने पूछताछ के लिए स्कूटर चालक को रोका तो दूसरा बाइक सवार पुलिसकर्मी के समीप पहुंचा और अश्लील भाषा का प्रयोग किया। कुछ देर में सैकड़ों लोगों की भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया। पुलिस पर पथराव भी किया।

घटना में पीएसआई से सहित तीन पुलिसकर्मी बुरी तरह घायल हो गए। आरोप है कि घटना के बाद पुलिस ने स्थानीय घरों में घुस-घुसकर महिलाओं संग मारपीट की और घर के बाहर खड़े वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App